यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

चित्रकूट के प्राचीन मंदिर से सुबह गायब हुई काल भैरव की मूर्ति दस घंटे बाद खेत से मिली


🗒 रविवार, अक्टूबर 25 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
चित्रकूट के प्राचीन मंदिर से सुबह गायब हुई काल भैरव की मूर्ति दस घंटे बाद खेत से मिली

चित्रकूट, बहिलपुरवा थाना के चंद्रमारा में रविवार सुबह खेरेपति मंदिर से काल भैरव की प्राचीन पत्थर की मूर्ति चोरी होने से पुलिस प्रशासन में खलबली मच गई। नवरात्र का अंतिम दिन होने के कारण मंदिर में सैकड़ों लोग इकट्ठा हो गए। तनाव की स्थिति बनती देख भारी फोर्स भी मौके पर पहुंच गया। हालांकि इस दौरान एक अनोखी घटना भी हुई। जो कि ये थी कि एक तांत्रिक ने मंत्राेच्चारण के माध्यम से खेत से मूर्ति खोज निकाली। अब तांत्रिक पुलिस हिरासत में है और मूर्ति को फिर मंदिर में स्थापित कर दिया गया है।मानिकपुर ब्लाक में ओहन बांध के किनारे बसा चंद्रामारा गांव आजादी के पहले से आबाद है। सैकड़ों साल पहले ठाकुरों ने गांव के किनारे चबूतरा बनाकर काल भैरव की मूर्ति स्थापित की थी। हालांकि बाद में प्रधान रहे स्व. इंद्रजीत मिश्र ने मंदिर और धर्मशाला का निर्माण करा दिया था। यहां पर हनुमानजी व देवी जी की भी मूर्ति स्थापित कर दी गई है। गांव की महिला व पुरुष प्रतिदिन पूजा करने के लिए मंदिर पहुंचते हैं। रविवार को नवरात्र का अंतिम दिन होने से भोर चार बजे से महिलाएं मंदिर में पहुंचने लगी थी। उन्होंने देखा कि काल भैरव की मूर्ति अपने स्थान से गायब है।खेरेपति मंदिर में मूर्ति ठाकुरों ने स्थापित की थी लेकिन बताते हैं कि तीन दशक पहले जब ओहन बांध का निर्माण हुआ था तो चंद्रामारा गांव का अधिकांश भाग डूब क्षेत्र में आ गया था। प्रशासन ने यहां के लोगों को नयाचंद्रा में जमीन देकर बसा दिया है। बसाए गए परिवार में वह ठाकुर परिवार भी है जिनके पूर्वजों ने मूर्ति की स्थापना की थी। पूर्व में दो बार यह परिवार मूर्ति को अपने गांव ले गए थे। उस समय किसी तरह चंद्रमारा के लोग मूर्ति वापस ले आए थे। इस बार फिर मूर्ति गायब होने पर लोगों ने उन्हीं परिवार में आशंका जताई थी। सैकड़ों लोग वहां जाने का विचार कर रहे थे।बहिलपुरवा थाना प्रभारी दीनदयाल सिंह ने बताया कि मूर्ति को करीब दस घंटे की मशक्कत के बाद दिन में एक बजे फिर से मंदिर में स्थापित करा दी गई है। जिस प्रकार तांत्रिक ने मूर्ति को खेत में होने की बात बताई थी तो आशंका है कि उसी का काम है। उसने यह कृत्य लोगों में अपना प्रभाव बनाने के लिए यह काम किया है। जिसे हिरासत में लिया गया है। 

चित्रकूट से अन्य समाचार व लेख

» चित्रकूट के डकैत जिलालाल को सात साल की कैद

» वन कर्मियों से मारपीट के मामले में डकैत गौरी के दो साथी गिरफ्तार

» पत्नी के वापस न आने पर पति ने खुद और बच्चे को पिलाया कीटनाशक

» चित्रकूट में प्रेमिका से मिलने आए युवक को खंभे में बांधकर पीटा, वीडियो वायरल

» डकैत गौरी यादव हुआ पांच लाख का इनामी