यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

देवरिया से दिनदहाड़े व्यापारी का अपहरण


🗒 बुधवार, जुलाई 27 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
देवरिया से दिनदहाड़े व्यापारी का अपहरण

देवरिया, । उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही के ग्राम पंचायत पकहां के नौगांव टोले के रहने वाले रेडीमेड कपड़े के दुकानदार का बुधवार की सुबह अपहरण हो कर ल‍िया गया था। अपहृत व्यवसायी को देवरिया पुलिस ने बिहार प्रदेश के सिवान जिले के हसनपुरा बाजार से बरामद कर लिया। व्यापारी के बरामद होने के बाद पूछताछ में जो तथ्य सामने आए हैं उसके आधार पर पुलिस अब अपहरण को संदिग्ध मान रही है। सर्विलांस के जरिए पुलिस ने अपहृत व्यवसायी मनोज कुशवाहा के मोबाइल फोन का अंतिम लोकेशन के आधार पर पुलिस की तीन टीम बिहार के सिवान जिले के लिए रवाना हो गई। दोपहर करीब डेढ़ बजे एडीजी अखिल कुमार व डीआइजी जे रविंद्र कुमार गौड़ नौगावां मोड़ के पास अपहृत व्यवसायी की पत्नी प्रियंका से पूछताछ कर रहे थे।इसी बीच प्रियंका के मोबाइल पर मनोज घबराए हुए फोन किया, बोले कि बदमाश मुझे हसनुपरा बाजार के पास छोड़कर भाग गए हैं। उसके बाद मोबाइल फोन का लोकेशन लेकर सिवान के एसपी को इसकी जानकारी दी। उसके बाद बिहार पुलिस ने मनोज को बरामद कर लिया। कुछ देर बाद सीओ सिटी श्रीयश त्रिपाठी, एसओजी व कुशीनगर की एसओजी टीम हसनपुरा बाजार पहुंची। पुलिस टीम ने अपहृत व्यवसायी को उसे ढांढस बंधाया।बघौचघाट थाना के पकहा ग्राम पंचायत के नौगांव टोले के रहने वाले 33 वर्षीय मनोज कुशवाहा पुत्र सुदर्शन कुशवाहा सुबह घर से टहलने के लिए निकले थे। वह घर से पकहा रोड़ की तरफ गए हुए थे, करीब नौ बजे तक वह घर नहीं पहुंचे। उन्होंने स्वजन को मोबाइल नंबर पर काल कर अपहरण कर लिए जाने की जानकारी दी। स्वजन ने इसकी सूचना तत्काल बघौचघाट थाना प्रभारी को दी।स्वजन का आरोप है कि उन्हें किसी ने अपहरण कर लिया है। व्यवसायी की बघौचघाट कस्बे के पकहा मोड़ पर रेडीमेड कपड़े की दुकान है। वह तीन भाइयों में सबसे बड़े है। एक भाई विदेश व दूसरे भाई किसी महानगर में ही काम करते हैं।पिता सुदर्शन ने भी जानकी नगर चौराहे पर पान की दुकान खोल रखा हैं।सुबह करीब नौ बजे व्यवसायी मनोज जब घर नहीं आए तो पत्नी प्रियंका देवी ने उनकाे फोन कर लोकेशन पूछा। व्यवसायी ने बताया कि मुझे नहीं पता कि कहां हूं। कुछ लोगों ने मुझे उठा लिया है। इसके बाद पत्नी प्रियंका अपनी सास सुरसती के साथ बघौचघाट थाने पहुंची। थाने में पुलिस की मौजूदगी में माता सुरसती देवी के मोबाइल पर फोन दुकानदार ने फोन किया था।अपनी माता को बताया कि कुछ लोगों ने मुझे उठा लिया है। कहां रखा है, इसके बारे में मुझे पता नहीं है। पापा से बात कराओ। इसके बाद से मोबाइल स्विच आफ आ रहा है। मौके पर एसपी संकल्प शर्मा ने पहुंचकर घटना की जानकारी ली। अपहरण की सूचना मिलने के बाद एडीजी जोन गोरखपुर अखिल कुमार,डीआईजी जे रविंद्र कुमार गौड़ भी पहुंचकर घटना के बारे में जानकारी ली।

प्रथम दृष्टतया अपहरण का मामला संदिग्ध प्रतीत हो रहा है। जो साक्ष्य मिले हैं। वह अपहरण की घटना की पुष्टि नहीं कर रहे हैं। व्यवसायी से सघन पूछताछ की जा रही है। - संकल्प शर्मा एसपी देवरिया।