यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दिनदहाड़े कैश वैन लूटने का प्रयास, गोली मारकर भाग रहे बदमाश को गार्ड ने मारी गोली, गिरफ्तार


🗒 सोमवार, मार्च 28 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
दिनदहाड़े कैश वैन लूटने का प्रयास, गोली मारकर भाग रहे बदमाश को गार्ड ने मारी गोली, गिरफ्तार

देवरिया, । शहर के बजाजी गली में सोमवार को दिनदहाड़े व्यापारियों से कलेक्शन करने गए कैश वैन के कस्टोडियन को गोली मारकर बदमाशों ने 30 लाख रुपये लूटने का प्रयास किया। कैश वैन के गार्ड ने एक बदमाश के पैर में गोली मार दी। जिसके बाद बदमाश पकड़ लिया गया। घायल कस्टोडियन व बदमाश को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद कस्टोडियन की हालत गंभीर देख चिकित्सक ने मेडिकल कालेज गोरखपुर रेफर कर दिया। जिला अस्पताल पहुंच पुलिस अधीक्षक डा.श्रीपति मिश्र ने बदमाश व कस्टोडियन से घटना की जानकारी ली। फरार बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगी हुई है।एचडीएफसी बैंक की तरफ से बड़े ग्राहकों से उनके प्रतिष्ठान से नकदी जमा करने के लिए कैश बैंक की सुविधा प्रदान की गई है। मदनपुर थाना क्षेत्र के ग्राम कोल्हुआ गांव के रहने वाले प्रभुनाथ पांडेय सीएमएस कैश वैन के कस्टोडियन के रूप में काम करते हैं। उनके साथ योगेंद्र तिवारी गार्ड व बैजनाथ सिंह रहते हैं। यह लोग व्यवसायियों के प्रतिष्ठानों से कैश लेने के बाद बैंक में जमा करने का काम करते हैं। मंगलवार की दोपहर बजाजी रोड में कैश लेने गए थे।कैश लेकर कस्टोडियन प्रभुनाथ जैसे ही गाड़ी के पास आए। बाइक सवार तीन बदमाशों ने झोले में रखे रुपये को छीनने का प्रयास किया। जब उन्होंने प्रतिरोध किया तो बाइक सवार एक बदमाश ने उनके पेट में गोली मार दी और झाेला ले लिया। यह देख गार्ड योगेंद्र तिवारी ने बदमाश शिवम सिंह के पैर में गोली मार दी। यह देख अन्य बदमाश फरार हो गए। जबकि गोली से घायल बदमाश शिवम सिंह निवासी भदिला दोयम थाना मदनपुर को लोगों ने पकड़ लिया। इसके बाद घायल कस्टोडियन व बदमाश को उपचार के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया गया।शिवम सिंह शातिर बदमाश है। गोरखपुर में हुई लूट के मामले में जेल में था। छह माह पहले ही जेल से छुटा था। पड़ोसी प्रांत बिहार के सिवान जनपद के रहने वाले दो बदमाशों से उसकी मुलाकात हुई और उन दोनों ने ही घटना को अंजाम देने की रणनीति तैयार की। शिवम सिंह का कहना है कि वह बस से यहां आया था और फिर घटना को अंजाम देने के लिए दो पहिया से मौके पर गए हैं। सुबह दस बजे से ही यह उनके पीछे पड़े थे।गार्ड योगेंद्र तिवारी होमगार्ड के जवान बताए जा रहे हैं। वह खाली समय में वैन गार्ड में काम करते हैं। उनकी बहादुरी के चलते शहर में बड़ी वारदात होते-होते बच गई। मौके जब पुलिस अधीक्षक पहुंच तो गार्ड को दस हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा किए।