यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

योगी सरकार में स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल, संभल मे एंबुलेंस के अभाव में गई सूरजपाल की जान


🗒 शुक्रवार, फरवरी 16 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
योगी सरकार में स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल, संभल मे एंबुलेंस के अभाव में गई सूरजपाल की जान

योगी सरकार कितने भी प्रयास कर ले लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी सुधरने को तैयार नहीं हैं. इस विभाग में गरीबों को मदद के बजाय फटकार मिलती है.
स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से एक बार फिर इंसानियत शर्मसार हुई है

जी हां बहजोई कोतवाली के गांव सादातबाड़ी के निवासी हरिशचंद्र का धेवता सूरजपाल (निवासी जनपद बुलंदशहर ) अपने नाना के साथ खेत पर मिटटी की कुइया साफ कर रहा था तभी अचानक मिट्टी सूरजपाल के ऊपर आकर गिरी और सूरजपाल मिट्टी में दब गया.
ऊपर बैठे नाना के शोर मचाने पर खेतों पर काम कर रहे लोग ने दौड़ कर बचाने का प्रयास करने लगे. काफी देर बाद सूरजपाल को बाहर निकाला जा सका.उसके ननिहाल के लोगों ने एंबुलेंस के लिए काफी प्रयास किया लेकिन फोन न उठने के कारण एंबुलेंस नही मिली तो अपनी मोटरसाइकिल से ही उसे सरकारी अस्पताल बहजोई लाया गया. लेकिन काफी देर होने के कारण डॉक्टर ने सूरजपाल को देखते ही मृत घोषित कर दिया.
जब उसे घायल अवस्था में मोटरसाइकिल से उतारा जा रहा था तब कोई भी सरकारी कर्मचारी मदद के लिए आगे नहीं आया और न ही उसे स्ट्रेचर मिला लिहाजा परिजनों ने कंधे पर लाद कर उसे अस्पताल में पहुंचाया. डॉक्टर के मृत घोषित करने पर भी परिजनों को वाहन के बजाय फटकार मिली और मृतक के परिजनों को शव कंधे पर ही लादकर ले जाना पड़ा.यह है योगी सरकार की स्वास्थ्य विभाग की सेवाएं. जब इस बारे में जनपद की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अमिता सिंह से बात की गई तो उन्होंने लापरवाही भरा जबाब दिया लेकिन किसी के खिलाफ कोई कार्यवाही करने की कोई बात नहीं की. जबकी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बहजोई के कैम्प में ही सीएमओ का कार्यालय है जिसमे स्वयं सीएमओ मौजूद थीं. यह सब उनके कार्यालय के सामने ही होता रहा.