यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल बेल्ट में घमासान तेज, गांवों में जाने से कतरा रहे नेता


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 16 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

छत्तीसगढ़ में पहले चरण की अधिसूचना जारी होते ही बस्तर में चुनावी घमासान शुरू हो गया है। अभी कांग्रेस और भाजपा के टिकटों का वितरण नहीं हुआ है। इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि जो महीनों से तैयारी कर रहे थे उन्हें टिकट मिल ही जाएगा। वक्त कम और काम ज्यादा, लिहाजा प्रत्याशी बनने की उम्मीद पाले नेता मोर्चे पर उतर गए हैं।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल बेल्ट में घमासान तेज, गांवों में जाने से कतरा रहे नेता

बस्तर की सभी 12 सीटों पर नामांकन की अधिसूचना जारी होते ही चुनाव का माहौल गरमाने लगा है। नक्सली इलाकों में नेता गांवों में घुसने से परहेज कर रहे हैं, लेकिन मुख्य मार्गों और शहरी इलाकों में सारी चर्चा चुनाव पर ही सिमट गई है। कोंटा विधानसभा सीट पर भाजपा की ओर से तीन नेता प्रचार करने में जुटे हैं। तीनों ही अपने-अपने कार्यकर्ताओं को साधने में जुट गए हैं।सीपीआइ ने इस बार बसपा-जकांछ गठबंधन से हाथ मिला लिया है। यहां मनीष कुंजाम कद्दावर नेता माने जाते हैं। छत्तीसगढ़ बनने के बाद भले ही कुंजाम कोई चुनाव नहीं जीत पाए हैं लेकिन हर चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबले का रोमांच पैदा करते रहे हैं। कांग्रेस से कवासी लखमा का टिकट पहले से तय माना जा रहा है। कवासी पिछले तीन महीने से गांव-गांव घूम भी रहे हैं। अति नक्सल प्रभावित इस सीट पर कवासी लखमा ही ऐसेनेता हैं, जो गांवों में जाने का साहस कर पा रहे हैं। बीजापुर भी धुर नक्सल प्रभावित सीट है। यहां प्रदेश सरकार के मंत्री महेश गागड़ा प्रचार अभियान में लगे हैं। उनकी यह सीट इस बार कांटे के संघर्ष में फंसती दिख रही है। इस सीट पर कांग्रेसी खेमेबाजी से दूर रहने की कोशिश में भी दिख रहे हैं।

बस्तर संभाग की एकमात्र सामान्य सीट जगदलपुर में टिकट के कई दावेदार रहे। अब दो कांग्रेसी दावेदारों ने मोर्चा खोल दिया है। हालांकि पिछले चुनाव में 16 हजार मतों के भारी अंतर से हारे सामू कश्यप रायपुर में रहकर लगभग तय कांग्रेसी पैनल के खिलाफ मुहिम भी चला रहे हैं। दंतेवाड़ा में सीपीआइ ने पूर्व विधायक नंदाराम सोरी को टिकट दिया है।भाजपा में पूर्व विधायक भीमा मंडावी चुनाव की तैयारी कर रहे हैं। उनके साथ ही सुखदेव ताती की भी चर्चा हो रही है। भाजपा में असंतोष का पता तो टिकट के बाद चलेगा, लेकिन कांग्रेस में कर्मा परिवार में ही फूट पड़ गई है। देवती कर्मा का टिकट तय है जबकि उनके बेटे छबिंद्र कर्मा निर्दलीय चुनाव लड़ने का एलान कर चुके हैं। कोंडगांव में भाजपा से पूर्व मंत्री लता उसेंडी दावेदार हैं।कांग्रेस से सिटिंग विधायक मोहन मरकाम का टिकट पक्का माना जा रहा है। इस सीट पर मुकाबला रोचक होने की पूरी उम्मीद है। भानुप्रतापुर, अंतागढ़, कांकेर, केशकाल, नारायणपुर, चित्रकोट आदि सीटों पर भी प्रचार का रंग दिखने लगा है।

चुनाव से अन्य समाचार व लेख

» वर्तमान लोकसभा मे 20 चेहरे पवेलियन में...किसी का टिकट कटा तो कोई लड़ नहीं रहा

» UP के तीन चरणों में दिग्गजों का बड़ा इम्तिहान

» भदोही संसदीय सीट से BJP प्रत्याशी ने हलफनामे में खुद को बताया बसपा का उम्मीदवार, सोशल मीडिया पर शपथपत्र वायरल

» 4थे चरण में 26 उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले, साक्षी महाराज पर सबसे अधिक

» लोकसभा चुनाव 2019 मे तीसरे चरण के समीकरणों ने बढ़ाई पुलिस की चिंता, कई दिग्गज मैदान में होने से बढ़ी संवेदनशीलता

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा के रतनलाल फूल कटोरी देवी बालिका विद्यालय में गेट के बाहर बैठकर अभिभावकों एक दिवसीय भूख की हड़ताल

» मथुरा के राया के ग्राम नगोड़ा में एक ही परिवार के लोगों के बीच वच्चे के चक्कर में विवाद बढ़ा

» मथुरा के व्रन्दावन के निधिवन धाम में 22 वर्षीय युवती ने फासी लगाकर की आत्महत्या

» मथुरा व्रन्दावन कृष्ण की नगरी में ज्यादातर लाखों की संख्या में रहिते साधु लेक़िन भेष बदलने में है निपुण

» मथुरा में कुछ पत्रकारों ने गिराया नीचे पत्रकारिता का स्तर