यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

एटा के जलेसर में महिला APO की निर्मम हत्या, चेहरे पर मारी गई पांच गोलियां


🗒 मंगलवार, अगस्त 06 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
एटा के जलेसर में महिला APO की निर्मम हत्या, चेहरे पर मारी गई पांच गोलियां

एटा के जलेसर कोर्ट में सहायक अभियोजन अधिकारी की उनके सरकारी आवास पर गोली मारकर हत्या कर दी। उन्हें पांच गोलियां मारी गईं। परिजनों ने दूर के रिश्ते में लगने वाले चाचा पर हत्या का आरोप लगाया है। एपीओ का शव महिला थाने के पास स्थित उनके क्वार्टर में पाया गया। इस सनसनीखेज वारदात के बाद पुलिस महकमा सकते में है। हत्यारोपितों की तलाश की जा रही है।30 वर्षीय सहायक अभियोजन अधिकारी नूतन यादव उर्फ डौली मूल निवासी गांव खुशालपुर थाना क्षेत्र बरहन जनपद आगरा अविवाहित थीं। उनके पिता जगदीश प्रसाद यादव एत्मादपुर तहसील में अधिवक्ता हैं। नूतन एक वर्ष से यहां जलेसर कोर्ट में तैनात थीं। रात में ही उनकी हत्या कर दी गई। एक गोली उनके सीने में तथा चार मुंह में मारी गईं, पूरा चेहरा गोलियों से छलनी हो गया। मंगलवार सुबह नौकरानी संगीता घर पर पहुंची तो शव को चारपाई पर पड़ा देखा।आगरा जिले के बरहन थाना क्षेत्र के गांव खुशहालपुर निवासी नूतन यादव (35) पुत्री जगदीश प्रसाद यादव सहायक अभियोजन अधिकारी पद पर एटा के जलेसर न्यायालय में कार्यरत थीं। वह वहीं पुलिस लाइन स्थित सरकारी आवास में भाई के साथ रहती थीं। बताया जाता है कि सोमवार को भाई घर चला गया। वह अपने आवास पर अकेली थीं। मंगलवार की सुबह काम करने वाली महिला जब वहां पहुंची तो देखा कि कमरे के अंदर महिला अधिकारी का खून से लथपथ शव पड़ा था। कमरे का नजारा देख कर वह चीख पड़ी। महिला के चिल्लाने की आवाज सुन आसपास के लोग निकल आए। मामले की सूचना पुलिस को दे दी गई।थोड़ी ही देर में एसएसपी स्वप्निल ममगाईं फोर्स के साथ पहुंच गए और मामले की छानबीन शुरू कर दी। बताया गया है कि घर पर नूतन अकेली थीं, वैसे उनका छोटा भाई राघवेंद्र उनके साथ रहता था, लेकिन एक दिन पहले वह गांव चला गया था। सूचना मिलते ही नूतन के परिवारीजन एटा पहुंच गए। उनकी बहन पूनम ने बताया कि रात को उनकी बात नूतन से हुई थी, तब उन्होंने गांव से भाई को एटा भेजने के लिए कहा था।इधर पुलिस ने जब पड़ोसियों से पूछताछ की तो पता चला कि रात के वक्त गांव खुशालपुर का ही रहने वाला धनपाल उर्फ धन्नू आया था, जो रिश्ते में नूतन का चाचा लगता है। अक्सर वह आता रहता था इसलिए मुहल्ले वाले उसे जानते थे, लेकिन मुहल्ले वालों ने फायर की आवाज नहीं सुनी। बहन ने यह भी कहा कि 30 साल पहले धन्नू ने उनके घर पर डकैती डलवाई थी, तब से रंजिश भी चल रही थी, लेकिन बीच में दोनों परिवारों में सुलह हो गई। तब से धन्नू का आना-जाना हो गया था, उसके पास लाइसेंसी रिवाल्वर भी है। पुलिस ने रिवाल्वर के पांच खोखा कारतूस भी मौके से बरामद किए हैं।पुलिस का शक धन्नू पर जा रहा है। उसके ठिकानों पर तलाश की गई तो वह वहां नहीं मिला। एसएसपी ने बताया कि हत्यारोपित की तलाश की जा रही है, शीघ्र ही पूरे मामले का खुलासा कर दिया जाएगा। बाद में आईजी डा. प्रीतिंदर सिंह भी घटनास्थल पर पहुंचे और मौके का जायजा लिया। उन्होंने हत्याकांड का शीघ्र पर्दाफाश किए जाने के निर्देश पुलिस को दिए हैं।जलेसर कोर्ट में तैनात एपीओ नूतन यादव की गोली मारकर हत्या की गई है। मंगलवार को नूतन यादव का शव पुलिस क्वार्टर में मिला। नूतन को हत्‍यारेे ने पांच गोलियां मारी हैं। यानि हत्‍यारा तब तक गोलियां मारता रहा, जब तक ये सुनिश्चित नहीं हो गया कि नूतन की सांसें अब साथ छोड़ गई हैं। मौके पर पुलिस के आला अधिकारी पहुंच गए हैं। इस घटना से परिवार में कोहराम मचा हुआ है।