यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बेटी की मांग में सिंदूर देख मां ने उतारा मौत के घाट


🗒 बुधवार, सितंबर 01 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बेटी की मांग में सिंदूर देख मां ने उतारा मौत के घाट

इटावा, । वैदपुरा थाना क्षेत्र के ग्राम उमराई में 28 अगस्त को युवती की हत्या खुद उसकी मां ने इज्जत की खातिर की थी। पुलिस ने घटना का पांचवें दिन पर्दाफाश करते हुए आरोपित मां को गिरफ्तार कर लिया। बेटी की मांग में प्रेमी के नाम का सिंदूर देख मां के सिर पर खून सवार हो गया था। उसने गला दबाकर हत्या करने के बाद शव को फांसी पर लटकाया और बेटी के प्रेमी को फंसाने के लिए उसके विरुद्ध मुकदमा दर्ज करवा दिया था। पुलिस का माथा तब ठनका जब उसने मांग में सिंदूर देखा और जांच में मां पर शक गहरा होता चला गया। आरोपित मां ने चाल तो चली लेकिन बेटी की मांग से सिंदूर पोछना भूल गई।एएसपी ग्रामीण ओमवीर सिंह ने बताया कि 28 अगस्त को डायल 112 के माध्यम से रवि बाबू पुत्र दीनानाथ निवासी ग्राम उमराई द्वारा सूचना दी गई कि उनकी भतीजी प्रियंका ने छत के कुंडे से फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली है। इस पर तत्काल उच्चाधिकारियों एवं थाना वैदपुरा पुलिस द्वारा मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया और घटनास्थल का निरीक्षण किया गया। अगले दिन 29 अगस्त को मृतका के पिता अनिल कुमार ने तहरीर दी कि उनकी पुत्री की गांव के राजकुमार व उसके अन्य साथियों ने हत्या कर शव को फांसी के फंदे पर लटका दिया था। इस तहरीर के आधार पर थाना मुकदमा पंजीकृत किया गया।एसएसपी डा. ब्रजेश कुमार सिंह ने घटना के राजफाश के लिए सीओ सैफई साधुराम के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच प्रभारी जितेंद्र प्रताप सिंह, थानाध्यक्ष वैदपुरा बृजेश कुमार सिंह, सैफई थाना प्रभारी निरीक्षक हामिद सिद्दीकी के नेतृत्व में तीन पुलिस टीम गठित की गईं। एएसपी ग्रामीण ने बताया कि पुलिस टीम द्वारा घटना के संबंध में संकलित साक्ष्यों के आधार पर यह तथ्य प्रकाश में आया कि प्रियंका की गला दबाकर हत्या उसकी मां निर्मला देवी द्वारा की गई है, जिसे बुधवार को पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना के आधार पर महोला जेल रोड रेलवे पुल के पास से गिरफ्तार किया गया।पूछताछ में निर्मला ने बताया कि उसकी पुत्री का गांव के राजकुमार से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसका स्वजन ने विरोध किया और अपनी पुत्री को बहुत बार समझाया भी। 28 अगस्त को वह और उसकी छोटी पुत्री इटावा से दवा लेकर घर लौटी तो प्रियंका अपनी मांग में सिंदूर भर रही थी। जिसका विरोध किया। इसी दौरान उसने गुस्से में पुत्री प्रियंका को धक्का देकर बेड पर गिरा कर गला दबा दिया था, जिससे उसकी मृत्यु हो गई। इसके बाद उसने अपने कृत्य को छिपाने एवं पुलिस से बचने के लिए राजकुमार द्वारा उसकी पुत्री की हत्या कर फांसी पर लटकाने का षड्यंत्र रचकर उसके विरुद्ध मुकदमा कराया था। 

इटावा से अन्य समाचार व लेख

» ट्रक से भिड़ी एंबुलेंस, दों बहनों की दर्दनाक मौत

» रिटायर्ड फौजी ने पत्नी को गोली मार उतारा मौत के घाट

» इटावा में फावड़ा से प्रहार कर शिक्षामित्र की हत्या

» खेत पर मवेशी चरा रहे युवक काे मारी गोली

» ट्रक की टक्कर से बाइक सवार दंपती की मौत

 

नवीन समाचार व लेख

» यूपी लोकसभा चुनाव की सभी सीटो में फहरेगा भाजपा का परचम: केशव प्रसाद मौर्य

» महोबिया पान किसानो को योजनाओ से जोड़कर करे लाभान्वित: केशव प्रसाद मौर्य

» लखनऊ मेट्रो में जल्द नजर आएंगे UPSSF के जवान

» इस बार नहीं अटकेगा 17 OBC जातियों को आरक्षण - संजय निषाद

» अपनी चिंता करें, बीजेपी के संपर्क में सपा के विधायक - भूपेंद्र चौधरी