यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मालगाड़ी के 24 वैगन गिरे, गिट्टी में दबकर बच्चे की मौत


🗒 सोमवार, सितंबर 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मालगाड़ी के 24 वैगन गिरे, गिट्टी में दबकर बच्चे की मौत

इटावा, डेडीकेटेड फ्रेट कारिडोर (डीएफसी)   पर सोमवार शाम करीब पांच बजे टूंडला से कानपुर जा रही मालगाड़ी वैदपुरा थानाक्षेत्र के गांव जैतिया के सामने ट्रैक धसकने से पलट गई। 100 किमी की रफ्तार में जा रही मालगाड़ी के वैगन एक-दूसरे पर चढ़ गए। करीब 24 गिट्टी लदे वैगन 25 फीट नीचे गिरे। मलबे में दबकर ट्रैक किनारे मौजूद एक बच्चे की मौत हो गई, जबकि दो बच्चे व एक महिला घायल हो गई। कुल 58 में से 46 वैगन क्षतिग्रस्त हुए हैं। ग्रामीणों के मुताबिक, मालगाड़ी करीब 100 किमी की स्पीड से जा रही थी, अचानक ट्रैक के धसकने से तेज आवाज के साथ गिट्टी लदे वैगन पलटने लगे। इंजन सहित चार वैगन घटनास्थल से करीब दो किमी आगे जाकर रुके, चार वैगन और गार्ड का ब्रेकयान ट्रैक पर ही रहा। कई वैगन ट्रैक पर ही एक-दूसरे पर चढ़ गए, जबकि अन्य ओएचई विद्युत पोल तोड़ते हुए ट्रैक से करीब 25 फीट नीचे जा गिरे। वैगनों से गिट्टी निकलकर खेत तक फैल गई। उसके मलबे में बकरियां चरा रहे जैतिया निवासी12 वर्षीय  सचिन की मौत हो गई है। 12 वर्षीय अनुराग, नौ वर्षीय गौरव, 50 वर्षीय सुमन देवी घायल हो गईं। करीब एक दर्जन बकरियों की भी मौत हो गई। प्रशासन ने सभी को अस्पताल में भर्ती कराया है। बीते 23 अगस्त को भी इसी ट्रैक पर जसवंतनगर और बलरई के बीच मालगाड़ी बेपटरी हुई थी। हालांकि, उसमें कोई हताहत नहीं हुआ था। एसएसपी डा. बृजेश कुमार ङ्क्षसह, एएसपी ओमवीर ङ्क्षसह, एसडीएम सैफई  एन राम व सीओ जसवंतनगर राजीव प्रताप ङ्क्षसह पहुंचे। डीएफसी के एक अधिकारी ने प्रथम दृष्टया चार दिन पूर्व हुई बारिश से ट्रैक के नीचे मिट्टी धसकने से घटना की आशंका जताई है। बाकी कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं हुआ। एसएसपी ने बताया कि ग्रामीणों ने कुछ और बच्चों के दबे होने की आशंका जताई है। इसलिए मलबा हटवाया जा रहा है। ग्राम जैतिया के पास डेडीकेटेड फ्रेट कारिडोर पर सोमवार को हुए हादसे की जानकारी बच्चों ने दी। बताया कि वह लोग ट्रैक किनारे बैठे थे, तभी मालगाड़ी गुजरी। धमाके की आवाज के साथ करीब 25 फीट ऊंचे रेलवे ट्रैक से वैगन नीचे गिरने लगे। गिट्टी बाहर फैलने से धूल का गुबार देख वह लोग भागे। घायल अनुराग ने बताया कि अचानक वैगन नीचे गिरने लगे तो वह लोग खुद को संभाल नहीं सके। गिट्टी का मलबा उनपर गिरा। खेत पर चर रहीं बकरियां भाग निकलीं। कुछ दब गईं। घायल सुमन ने बताया कि उसके भी चेहरे व हाथ पर गिट्टी लगी। सबसे पहले मौके पर सैफई के एसडीएम एन राम व एएसपी ग्रामीण ओमवीर ङ्क्षसह पहुंचे। उन्होंने घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया। पीछे से बच्चों के स्वजन भी अस्पताल पहुंचे।