यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मदद के नाम पर अस्मत लूटने वाला थानेदार जांच में निकला दोषी


🗒 बुधवार, नवंबर 03 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मदद के नाम पर अस्मत लूटने वाला थानेदार जांच में निकला दोषी

इटावा, । मदद के नाम पर महिला की अस्मत लूटने वाला थानेदार जांच में दोषी साबित हुआ है। गर्भवती पीड़िता के बताए दोनों होटलों के आसपास उसकी मौजूदगी के साक्ष्य मिलने के बाद सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। महिला के चिकित्सकीय परीक्षण के साथ ही आरोपित पर विभागीय कार्रवाई की तैयारी है।चकर नगर निवासी एक महिला ने पति के खिलाफ दहेज उत्पीड़न की शिकायत पुलिस से की थी। महिला ने शिकायत मायके भरेह में रहते हुए की थी। भरेह थाना प्रभारी महेंद्र प्रताप सिंह ने परिवार टूटने का हवाला देकर उसका समझौता करा दिया था। इसके बाद उसकी तैनाती महिला के ससुराल चकर नगर क्षेत्र में ही हो गई थी। उसने महिला को बयान के बहाने बुलाकर होटल में रोका और पति को सामान लेने के बहाने भेजकर दुष्कर्म किया था। इसके बाद वह लगातार उसका उत्पीड़न करता रहा। पीड़िता ने उसकी शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, महिला आयोग और प्रशासनिक अधिकारियों से की थी। पीड़िता की शिकायत पर एसएसपी जेपी सिंह ने सीओ और महिला थाना प्रभारी की दो सदस्यीय टीम से जांच कराई थी। जांच में इंस्पेक्टर की लोकेशन घटना के बताए दिन इटावा के सिविल लाइन थानांतर्गत स्टेशन रोड और कचौरा रोड स्थित होटल क्षेत्र में मिली। सीओ राकेश वशिष्ठ ने बताया कि भरेह और चकरनगर थाने के तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक महेंद्र प्रताप के खिलाफ थाना सिविल लाइन में दुष्कर्म, धमकाने आदि की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एसएसपी जेपी सिंह ने बताया कि आरोपित के खिलाफ विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी। वर्तमान में आरोपित की तैनाती महोबा जिले में है। इसके साथ ही महिला का चिकित्सकीय परीक्षण भी कराया जाएगा।