यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अयोध्या में सुरक्षा को लेकर 25 फरवरी तक बढ़ी निषेधाज्ञा, बिना अनुमति धरना-प्रदर्शन पर रहेगी रोक


🗒 शुक्रवार, दिसंबर 27 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर हुए हिंसक प्रदर्शनों और आतंकी हमले के अलर्ट को देखते हुए भगवान राम की नगरी अयोध्या में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। शासन से लेकर स्थानीय प्रशासन तक विरोध प्रदर्शन पर विशेष निगाह बनाए हुए है। इसी के मद्देनगर रामनगरी में निषेधाज्ञा (धारा-144) को 25 फरवरी तक बढ़ा दिया गया है। यानी विरोध-प्रदर्शन के लिए सक्षम अधिकारी की अनुमति जरूरी होगी। बिना अनुमति के विरोध प्रदर्शन को निषेधाज्ञा का उल्लंघन माना जाएगा।जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने 25 फरवरी तक निषेधाज्ञा को बढ़ा दिया है। बेहतर कानून व्यवस्था के लिए इसे जरूरी बताया गया है। निषेधाज्ञा प्रभावी होने से बिना सक्षम अधिकारी की पूर्वानुमति के कोई भी जुलूस नहीं निकाला जा सकेगा। धरना-प्रदर्शन, घेराव, पदयात्रा, नारेबाजी, वाद-विवाद भी नहीं किया जा सकेगा। धार्मिक स्थल मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, शिक्षण संस्थान, मदरसा के गेट व परिसर में बिना सक्षम अधिकारी धरना-प्रदर्शन नहीं किया जाएगा। जनसामान्य को भड़काने वाला गाना भी नहीं बजेगा। जिला मजिस्ट्रेट के अनुसार नववर्ष, गुरु गोविंद सिंह जयंती, मकर संक्रांति समेत विभिन्न त्योहारों के साथ-साथ विभिन्न सेवा आयोगों की परीक्षाएं, उप्र माध्यमिक शिक्षक परिषद एवं विश्व विद्यालय की परीक्षाएं इसी बीच आयोजित होनी है। इसलिए इस दौरान अयोध्या में विशेष सतर्कता बरती जा रही है।सीएए के विरोध की आड़ में हुई हिंसा पर उप्र पुलिस ने अब अपनी कार्रवाई तेज कर दी है। न केवल उपद्रवियों की शिनाख्त और धरपकड़ में तेजी आई है, बल्कि नुकसान के आकलन के बाद वसूली की दिशा में भी पुलिस-प्रशासन ने कदम बढ़ा दिए हैं। इस मामले में पहली बड़ी कार्रवाई रामपुर में सामने आई है, जहां बवाल में हुए 17 लाख के नुकसान की भरपाई के लिए 28 आरोपितों को नोटिस जारी किए गए हैं। इसी तरह लखनऊ सहित अन्य स्थानों पर भी बड़े स्तर पर कार्रवाई की तैयारी है।खुफिया एजेंसियों ने अयोध्या में आतंकी हमले के खतरे का अलर्ट जारी किया है। पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मसूद अजहर ने अयोध्या में हमले कराने की साजिश रची है। यह जानकारी मिलते ही उत्तर प्रदेश पुलिस ने अयोध्या की सुरक्षा और कड़ी कर दी है। खासकर भीड़भाड़ वाले इलाकों में निगरानी रखी जा रही है। बाहर से आने वाले वाहनों की चेकिंग हो रही है। वैसे, अयोध्या में राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से ही रामनगरी सहित संपूर्ण जिले में पुलिस की निगरानी बढ़ी हुई है। बताया जा रहा है कि आतंकी उत्तर प्रदेश के जिलों जैसे गोरखपुर और अयोध्या में छिपे हुए हैं और पुलिस अब तक इन्हें तलाश नहीं कर पाई है। जैश के इन सात दुर्दांत आतंकियों में से पांच की पहचान की जा चुकी है। इनके नाम मुहम्मद याकूब, अबू हमजा, मुहम्मद शाहबाज, निसार अहमद और मुहम्मद कौमी चौधरी है।

अयोध्या में सुरक्षा को लेकर 25 फरवरी तक बढ़ी निषेधाज्ञा, बिना अनुमति धरना-प्रदर्शन पर रहेगी रोक

फैजाबाद से अन्य समाचार व लेख

» अयोध्या में पांच अगस्त को पीएम मोदी के साथ मोहन भागवत भी रहेंगे मौजूद

» पीएम मोदी 32 सेकेंड में रखेंगे आधारशिला

» अयोध्या में एक अगस्त से ही दीपावली जैसा दृश्य दिखाई दे - CM योगी

» PM मोदी सिर्फ 32 सेकेंड में करेंगे राम मंदिर की नींव पूजा, अभिजीत मुहूर्त में होगा पूजन

» अयोध्या में मंदिर में कब्जे को लेकर साधुओं के दो गुटों में झड़प, पुलिस ने किया गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» लखनऊ के युवक की मलेशिया में मौत, अब परिवार लगा रहा न्याय की गुहार

» कोविड संक्रमित मरीजों की भर्ती में शिकायत आई तो जिम्मेदारी तय कर करेंगे कड़ी कार्रवाई : मुख्य सचिव

» यूपी चुनाव की तैयारियों के बीच मायावती का बड़ा प्रयोग, सभी भाईचारा कमेटियां भंग की

» यूपी में सात फसलों के उत्पादक किसानों को ही मिलेगा मौसम आधारित फसल बीमा का लाभ

» महोबा-पुलिस ने जुआ खेलते चार को किया गिरफतार