यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कांग्रेस नहीं चाहती थी राम मंदिर विवाद का पटाक्षेप: योगी आदित्यनाथ


🗒 सोमवार, अगस्त 03 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कांग्रेस नहीं चाहती थी राम मंदिर विवाद का पटाक्षेप: योगी आदित्यनाथ

रामनगरी अयोध्या में श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन में अब 48 घंटा से भी कम समय रह गया है। ऐसे में सीएम योगी आदित्यनाथ पीएम नरेंद्र मोदी के पांच अगस्त को रामनगरी में आगमन से पहले तैयारी में कोई कसर नहीं छोडऩा चाह रहे हैं। पीएम नरेंद्र मोदी के आगमन से पहले ही हर तैयारी स्वयं सीएम योगी आदित्यनाथ देख रहे हैं। आज भी उन्होंने अयोध्या का दौरा किया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने रामलला के साथ ही हनुमान गढ़ी में भी दर्शन-पूजन किया। वह सरयू नदी के तट पर भी गए और दुग्धाभिषेक किया। साकेत डिग्री कॉलेज के हर जगह का दौरा करने के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हर तैयारी की समीक्षा भी की।सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर मीडिया से बात भी की। उन्होंने पांच अगस्त को बेहद गौरवपूर्ण तथा एतिहासिक बताया। इसके साथ कांग्रेस पर राम मंदिर के विवाद को लटकाने का भी गंभीर आरोप लगाया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस इस प्रकरण का पटाक्षेप नहीं चाहती थी। अब देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी रामनगरी अयोध्या में भूमि पूजन का कार्यक्रम करेंगे। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस अयोध्या के विवाद का पटाक्षेप नहीं चाहती थी। इसी कारण कांग्रेस के नेता ने न्यायपालिका के समक्ष अर्जी देकर यह कहा कि इस प्रकार का निस्तारण लोकसभा चुनाव के बाद किया जाए। इससे साफ जाहिर है कांग्रेस पार्टी राम मंदिर के खिलाफ काम कर रही थ। उन्होंने कहा कि फिलहाल 500 वर्ष के विवाद का पूरी तरीके से पटाक्षेप हो गया है। राजनीति में जन भावनाओं की कद्र करते हुए काम किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि करीब पांच सौ वर्ष पहले एक अत्याचारी ने श्री राम जन्म भूमि मंदिर को तोड़कर मस्जिद का निर्माण कराया था। अब तो देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत न्यायपालिका के आधार पर एक निर्णय आया है उस निर्णय के तहत मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरू हुई है। नए भारत के निर्माण में कई वर्ष से पिछड़ा देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में लगातार आगे बढ़ रहा है। दुनिया को हमारी ताकत का अहसास हो गया है। पीएम मोदी ने 2014 के चुनाव में कहा था कि अयोध्या में संविधान के दायरे में रहकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया जाएगा। उसी श्रृंखला में देश की सर्वोच्च संस्था न्यायालय ने श्री राम जन्मभूमि परिसर में मंदिर के पक्ष में निर्णय दिया था। सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार सरकार ने ट्रस्ट का निर्माण किया। अब ट्रस्ट ही राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरू कर रहा है।उन्होंने कहा कि यह गौरव का विषय है। भारत का लोकतंत्र व न्यायपालिका पूरी तरीके से मजबूत हैं। नए भारत की परिकल्पना के साथ सबके साथ चल कर रामराज की अवधारणा कर भारत को सशक्त बनाने की योजना पर काम हो रहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पांच अगस्त को पीएम नरेंद्र मोदी अयोध्या में मंदिर निर्माण का भूमि पूजन करेंगे। ऐसे में देश के साथ विदेश में रहने वाले लोग राम की भक्ति में लीन हो जाएं। देश में कोविड-19 का असर बढ़ता जा रहा है। अत: लोग अपने घरों के साथ मंदिरों में भी कोविड-19 की सभी एडवाइजरी का पालन करते हुए दीप जलाएं और पूजा करें।  

फैजाबाद से अन्य समाचार व लेख

» एसएसएफ के हवाले होगी रामनगरी की सुरक्षा

» भोजपुरी अभिनेत्री अक्षरा सिंह ने किए रामलला के दर्शन, बोलीं- हर साल आने का प्रयास करूंगी

» एसबीआइ ने ट्रस्ट को लौटाए रुपये, धोखाधड़ी कर खाते से न‍िकाली गई थी रकम

» अयोध्या-चित्रकूट राम वन गमन मार्ग के लिए 452 करोड़ मंजूर, प्रयागराज महाकुंभ से पहले पूरा होगा प्रोजेक्ट

» अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए नक्शा पास, प्राधिकरण बोर्ड की बैठक में सर्वसम्मति से मंजूरी