यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वंस पर CBI कोर्ट के फैसले को चुनौती देगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड


🗒 शुक्रवार, अक्टूबर 16 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वंस पर CBI कोर्ट के फैसले को चुनौती देगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

लखनऊ,अयोध्या के विवादित ढांचा ध्वंस मामले में सीबीआइ कोर्ट के फैसले को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड हाई कोर्ट में चुनौती देगा। बोर्ड की वर्किंग कमेटी की दो दिवसीय बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया। ऑनलाइन हुई इस बैठक में यूनिफॉर्म सिविल कोड के खतरे से निपटने के उपायों पर भी चर्चा हुई। तय हुआ कि यूनिफॉर्म सिविल कोड से होने नुकसान से सियासी दलों और धार्मिक संगठनों को अवगत कराया जाएगा। इसके लिए बोर्ड के महासचिव को एक समिति गठित करने के लिए अधिकृत कर दिया गया है। कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मोबाइल एप के जरिये मीटिंग की। बैठक की अध्यक्षता बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना सैयद मोहम्मद राबे हसनी नदवी ने की और संचालन महासचिव मौलाना मोहम्मद वली रहमानी ने किया। बैठक में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के आरोपियों के मामले में सीबीआइ कोर्ट के फैसले पर आश्चर्य और दुख व्यक्त किया गया। बोर्ड ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि सीबीआइ कोर्ट के फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी जाए।ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कार्यालय सचिव डॉ.मोहम्मद वकारुद्दीन लतीफी के मुताबिक बैठक में कानूनी समिति के संयोजक यूसुफ हातिम मछाला ने सबरीमाला मामले में कहा कि इसमें धार्मिक स्वतंत्रता व संविधान के अनुच्छेद-25 का दायरा शामिल है। एक धर्म के लिए क्या आवश्यक है, ऐसे सवाल बहस में आएंगे। उन्होंने कहा कि इस फैसले का असर अल्पसंख्यकों व अन्य धर्म के लोगों के साथ ही बहुसंख्यक समुदाय की मजहबी आजादी को भी प्रभावित करेगा। बोर्ड ने तय किया कि वह भी इस मामले में हस्तक्षेप करेगा और पक्षकार के रूप में शामिल होगा।ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में सीआरपीसी और आइपीसी में सुधार के लिए सरकार द्वारा गठित समिति को लेकर भी चर्चा हुई। बोर्ड के ज्यादातर सदस्यों का मानना है कि समिति की सिफारिशों के दूरगामी परिणाम होंगे। सदस्यों की राय थी कि मुस्लिम समुदाय भी समिति की सिफारिशों से प्रभावित हो सकते हैं। इसलिए कानूनी विशेषज्ञों और बुद्धिजीवियों की एक समिति गठित कर नागरिक समाज और कानूनी विशेषज्ञों के साथ इस मामले का हल निकाला जाए।

फैजाबाद से अन्य समाचार व लेख

» अयोध्या में भूमि विवाद के बीच महिला पर प्राणघातक हमला, काटी जुबान;

» इकबाल अंसारी के खिलाफ फ‍िर होगी जांच, शूटर वर्त‍िका स‍िंंह की श‍िकायत पर कोर्ट ने द‍िया आदेश

» इकबाल अंसारी के खिलाफ मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगते ही भड़की शूटर वर्तिका सिंह, 14 को अगली सुनवाई

» एसएसएफ के हवाले होगी रामनगरी की सुरक्षा

» भोजपुरी अभिनेत्री अक्षरा सिंह ने किए रामलला के दर्शन, बोलीं- हर साल आने का प्रयास करूंगी

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर मे खेत पर फसल काटने गई किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म, दो युवक गिरफ्तार

» हाथरस में युवक को चाकू मारने वाली युवती हिरासत में

» प्रयागराज मे खड़े ट्रक में जा घुसी बेकाबू डीसीएम, चालक समेत तीन की मौत,

» गाजीपुर में गंगा स्‍नान के लिए जा रही तीन महिलाओं की ट्रक से कुचलकर मौत

» लिया हत्याकांड में बड़ी कार्रवाई, SDM व CO के बाद अब तीन SI समेत आठ पुलिसकर्मी निलंबित