यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बेड के नीचे म‍िला मऊ में तैनात अर्थ एवं संख्‍या अध‍िकारी का शव


🗒 शुक्रवार, सितंबर 24 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बेड के नीचे म‍िला मऊ में तैनात अर्थ एवं संख्‍या अध‍िकारी का शव

अयोध्या, । मऊ में तैनात अर्थ एवं संख्या अधिकारी विनीता यादव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उनकी आयु 45 वर्ष थी। वह शहर की सरस्वती विहार कॉलोनी स्थित न्यू ट्रांजिट हास्टल में रहती थीं। शुक्रवार को उनसे मिलने पहुंची बहन रीता यादव ने कमरे का दरवाजा बंद पाया। काफी खटखटाने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने दरवाजा खोल कर देखा तो फर्श पर बिछी चटाई पर विनीता का शव पड़ा था। शव से दुर्गंध उठ रही थी। आशंका है कि शव दो दिन से बंद कमरे में पड़ा था। अपर पुलिस अधीक्षक नगर विजयपाल सिंह ने घटनास्थल पर पहुंचकर छानबीन की। स्वजनों की ओर से अभी पुलिस को कोई तहरीर नहीं दी गई है।विनीता यादव आजमगढ़ जिले के नोहरा दीदारगंज की मूल निवासी थीं। करीब आठ वर्ष पहले उनका पति से तलाक हो गया था। तलाकशुदा पति की भी कोरोना से मौत हो चुकी है। विनीता यादव के कोई संतान नहीं थी। न्यू ट्रांजिट हास्टल सरस्वती विहार कॉलोनी में वह अकेली रहती थीं। आसपास के लोगों से भी वह कम बातचीत करती थीं। गुरुवार को भी उनकी बहन रीता यादव उनसे मिलने आईं थी, लेकिन उनके कमरे का दरवाजा नहीं खुला। अवसाद में रहने की वजह से वह अक्सर स्वजनों से बातचीत नहीं करती थीं।इसी वजह से उनकी बहन ने भी दरवाजा खोलने के लिए दबाव न बनाते हुए वापस चली गई, लेकिन शुक्रवार को दोबारा पहुंची बहन ने दरवाजा खटखटाया और दरवाजा नहीं खुला तो पुलिस को सूचना दी गई है। विनीता यादव वर्ष 2014 से 2018 तक अयोध्या में अर्थ एवं संख्या अधिकारी के पद भी तैनात रह चुकी हैं। वर्ष 2018 में ही उनका स्थानांतरण इसी पद पर मऊ हो गया था। एसपी सिटी ने बताया कि गत 20 सितंबर को वह मऊ से सरस्वती विहार अपने कमरे पर लौटी थीं। विनीता यादव के परिवार में उनका एक भाई और चार बहने हैं, जिसमें से एक बहन रीता यादव साहबंज में रहती हैं।