जिला फर्रुखाबाद में आंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाडऩे की कोशिश, हंगामा

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला फर्रुखाबाद में आंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाडऩे की कोशिश, हंगामा


🗒 शनिवार, सितंबर 22 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
जिला फर्रुखाबाद में आंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाडऩे की कोशिश, हंगामा

कायमगंज इलाके के गऊटोला निवासी महेश गौतम ने गांव के पास कोर्ट पहाड़ी जाने वाले रोड पर वर्ष 2001 में अंबेडकर की प्रतिमा स्थापित कराई थी। गुरुवार रात किन्ही शरारती तत्वों ने प्रतिमा का दायां हाथ तोड़ दिया। सुबह जब लोगों ने टूटा हाथ देखा तो ग्रामीण इकट्ठा हो गये। जानकारी मिलते ही एसडीएम अनिल कुमार, सीओ अभिषेक राय, प्रभारी निरीक्षक जसवंत सिंह फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। तत्काल प्रतिमा पर चादर डाल कर ढक दिया गया। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2016 में 11 अक्टूबर जिस दिन दशहरा और मोहर्रम से पहले वाली रात एक साथ थी। उस रात इसी आंबेडकर प्रतिमा को तोड़ा गया था।तब भी प्रशासन ने मरम्मत करा दी थी।

एसडीएम व सीओ ने मंत्रणा कर तत्काल मरम्मत के लिए शमशाबाद से कारीगरों को बुलवाया। इस दौरान शरारतीतत्वों का पता लगाने के लिए अधिकारियों ने डॉग स्क्वाड और फील्ड यूनिट टीम को भी बुला लिया। फील्ड यूनिट की जांच के बाद मरम्मत कराने पर विचार चल रहा था कि वहां मौजूद बसपा नेता विजय भास्कर, रामनरेश गौतम, राहुल गौतम, हाजी फजल मंसूरी आदि ने प्रतिमा की मरम्मत के बजाय नई प्रतिमा लगाने को कहा। नई प्रतिमा की व्यवस्था के लिए उपजिलाधिकारी व ग्राम प्रधान के पति शोएब खां के प्रयास से तत्काल धन संग्रह कराकर प्रतिमा लेने के लिए लोगों को भेज दिया गया। डॉग स्क्वाड हैंडलर ने आस्कर (खोजी कुत्ता) को प्रतिमा स्थल पर मिली चप्पलों को सुंघाया। इसके बाद आस्कर सामने स्थित मक्का के खेत में दौड़ा। फिर खेत से निकलकर दूसरे रास्ते से गांव के अंदर घूमता हुआ वापस प्रतिमा स्थल पर आ गया। इससे संकेत मिला कि मूर्ति तोड़ने वाला कोई गांव का ही है। वहीं फील्ड यूनिट के विशेषज्ञ ओमप्रकाश व एसआई सुरेंद्र सिंह ने प्रतिमा के खंडित हाथ व अन्य स्थलों से फिंगर प्रिंट के नमूने लिए। गऊटोला में मोहर्रम से पहले कत्ल की रात के दौरान आंबेडकर प्रतिमा तोड़े जाने के मामले में ग्रामीणों व बाद में पहुंचे बसपा व अन्य नेताओं ने संयम का परिचय दिया। एसडीएम व सीओ बातचीत से माहौल पूरी तरह शांत रहा। वहां मौजूद डा. आंबेडकर सामाजिक युवा संगठन के प्रदेश महामंत्री सचिन कुमार, अमित, राजकुमार गौतम, सुरेश वर्मा, रामसिंह गौतम, प्रेमबाबू, अनुज, दीपक बाल्मीकि, विनय, विकास, सौरभ सागर आदि ने कहा कि किसी शरारती तत्व ने यह कृत्य जानबूझ कर किया, जिससे मोहर्रम के दिन माहौल खराब हो जाए। सभी ने इस मामले में कड़ी कार्रवाई की मांग की।

फर्रूखाबाद से अन्य समाचार व लेख

» फर्रुखाबाद में संपत्ति हथियाने को लेकर चाचा ने कर दी मासूम की हत्या

» फर्रुखाबाद मे 25 हजार के इनामी लुटेरे को पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान किया ढेर

» फेसबुक पर हुआ प्यार और प्रेमिका आ गई प्रेमी के द्वार

» फर्रुखाबाद मे चेकिंग के दौरान नहीं रोकी बाइक तो सिपाही ने मार दिया हेलमेट, छात्र को तड़पता देख मौके से भागे

» फर्रुखाबाद मे रिटायर्ड सैन्य कर्मी की बेटी की खुदकशी पीछे छोड़ गई कई सवाल, मंगेतर ने तोड़ दी थी शादी

 

नवीन समाचार व लेख

» निर्वाचक नामावलियों का पुनरीक्षण कार्य कराये जाने हेतु जनपद स्तर पर 2256 रहेंगे मतदेय स्थल-डीईओ

» जनहित के नाम पर पालिका कर रहा स्थायी अतिक्रमण-आशीष द्विवेदी

» पुलिस को चुनौती देने से बाज नहीं आ रहे,दबंग खुलेआम लहराया असलहा

» अभिभावकों की फीस वसूली की जांच कराकर विद्यालय प्रबंधन पर सख्त कार्रवाई हो: प्रसपा

» भाजपा नेत्री ने मनाई शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती