नाखुश पिता ने बेटी की बेरहमी से कर दी हत्या

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नाखुश पिता ने बेटी की बेरहमी से कर दी हत्या


🗒 मंगलवार, जुलाई 13 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
नाखुश पिता ने बेटी की बेरहमी से कर दी हत्या

फर्रुखाबाद, झूठी शान में एक पिता ने इकलौती पुत्री की चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। युवती का दोष इतना था कि वह प्रेमी से विवाह की जिद पर अड़ी थी, जबकि पिता उसका विवाह दूसरी जगह तय कर चुका था। पहले झगड़ा होने पर युवती ने 112 डायल कर पुलिस भी बुलाई थी, लेकिन वह भी समझा-बुझाकर लौट गई। उसके बाद पिता घटना को अंजाम देकर पुत्र समेत फरार हो गया। ग्राम प्रधान की सूचना पर पुलिस ने पिता के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।गांव लहरा रजा कुलीपुर में विनोद कुमार जाटव इकलौती पुत्री 19 वर्षीय शिवानी व छोटे पुत्र दस वर्षीय अंकित के साथ रहता था। उसके बड़े पुत्र संजीव व अंकेश बाहर काम करते हैं, पत्नी की मौत हो चुकी है। सोमवार को सुबह विनोद कुमार का विवाद शिवानी से हो गया। इस पर शिवानी ने 112 डायल कर पुलिस बुला ली। पुलिस ने पिता-पुत्री के बीच का मामला समझकर दोनों को शांत कराया और चली गई। सिपाहियों के जाने के बाद घर में चीख पुकार होने लगी। पड़ोसी पहुंचे तो घर के कमरे के दरवाजे के पास शिवानी का लहूलुहान शव पड़ा था। विनोद और उसका व पुत्र अंकित गायब थे। प्रभारी निरीक्षक संजय मिश्रा फोर्स के साथ पहुंचे और घटनास्थल पर छानबीन की। पड़ोसी भी गवाही व पूछताछ से बचने के लिए घर छोड़ कर भाग गए। रिश्तेदारों में सबसे पहले शिवानी की मौसी गांव चांदपुर निवासी प्रीति पहुंची। ग्राम प्रधान अतुल यादव ने पुलिस को घटना के बारे में जानकारी दी। फारेङ्क्षसक टीम ने घटनास्थल से साक्ष्य जुटाए।प्रभारी निरीक्षक संजय मिश्रा ने बताया कि ग्राम प्रधान अतुल यादव की सूचना के आधार पिता विनोद कुमार जाटव पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पिता दूसरी जगह विवाह करना चाहता था। इसी बात पर विवाद था। अपर पुलिस अधीक्षक अजय प्रताप ङ्क्षसह ने कहा कि पिता ने ही युवती की हत्या की है। आरोपित की शीघ्र ही गिरफ्तारी की जाएगी। बताया जा रहा है कि पिता-पुत्री में सुबह झगड़ा होने के बाद शिवानी ने 112 डायल कर पुलिस को बुला लिया था, उनकी दोनों पक्षों से बात भी हुई, इसके बाद सिपाहियों ने उस युवक से भी मोबाइल फोन पर बात की, जिससे युवती शादी करना चाहती थी। पिता भी मान गया था कि बालिग पुत्री की शादी उसकी मर्जी से कर देगा। विवाद शांत होने पर पुलिस लौट गई। इसके बाद पिता ने इस जघन्य घटना को अंजाम दे दिया।