यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नाराज पति ने पत्नी को उतारा मौत के घाट


🗒 रविवार, सितंबर 05 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
नाराज पति ने पत्नी को उतारा मौत के घाट

फर्रुखाबाद,   मऊदरवाजा थाना क्षेत्र के गांव ढिलावल चौराहे के निकट ज्ञान चंद्र जाटव का मकान है। ज्ञान चंद्र ने दोपहर को 45 वर्षीय पत्नी कामिनी के सिर में फावड़ा मार दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद आरोपित घर से निकलकर चला गया। थाना प्रभारी अजय नारायण सिंह ने फोर्स के साथ मौके पर जांच की। पुत्री दिव्या व खुशी ने पुलिस को बताया कि पिता ज्ञानचंद्र शराब पीने के आदी हैं। वह दोपहर को शराब पीकर घर आए, मां दरवाजे पर बैठी थीं। वह लोग दरवाजे पर ही तख्त पर छोटी सी दुकान लगाती हैं। नशे में होने के कारण मां ने पिता से घर के अंदर जाकर बैठने को कहा। इसी पर वह विवाद करने लगे। मां कामिनी को कई दिन से बुखार आ रहा था। वह घर में दवा खाकर तख्त पर लेट गईं। तभी पिता भी अंदर गए और फावड़ा लाकर मां के सिर पर मार दिया। उन्हें मां की चीख सुनकर घर में गईं तो देखा कि मां खून से लथपथ पड़ी हैं। पिता पास में ही फावड़ा रखकर घर के बाहर चले गए। कामिनी की पुत्री शोभा, सौम्या व संध्या की शादी हो चुकी है। पुत्र संजय व मोहित राजस्थान के कोटा में रहते हैं। कामिनी का मायका जनपद कन्नौज के तालग्राम के गांव गोवा में है। दारोगा आनंद प्रकाश तिवारी ने बताया कि कामिनी के भाई नीरज से उनकी बात हुई है। नीरज ने बताया है कि वह ऋषिकेश में हैं रात तक पहुंचेंगे। तब तक बहन का शव घर में ही रखा रहे। थाना प्रभारी ने बताया कि जांच की जा रही है। पुत्र व भाई के आने पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। पूर्व में बीच बचाव में घायल हो चुके हैं। मृतका के जेठ आरोपित के बड़े भाई दीप चंद्र ने बताया कि उन्होंने ज्ञान चंद्र व उनके परिवार से 14 साल पहले ही दूरी बना ली थी। ज्ञान चंद्र नशा करने का आदी है। वह पहलेे टेलर का काम करता था। अब कोल्ड स्टोरेज में पल्लेदारी करने जाता था। वह नशा करने सुबह ही लकूला चला जाता था। 14 साल पहले ज्ञान चंद्र का परिवार में विवाद हो रहा था। उन्होंने हस्तक्षेप किया तो भतीजे ने ही उन्हें टकोरा मारकर घायल कर दिया था। इसी बाद के उन्होंने ज्ञान चंद्र व उनके परिवार से संबंध खत्म कर लिए थे।