यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अपहरण के मामले में दारोगा निलंबित


🗒 सोमवार, अप्रैल 11 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अपहरण के मामले में दारोगा निलंबित

फतेहपुर,। कल्यानपुर थाने के एक गांव से युवती के अपहरण के मामले की जांच में लापरवाही बरतने पर दो दारोगाओं को निलंबित कर दिया गया है। वहीं एक इंस्पेक्टर व एक दारोगा के निलंबन के लिए एसपी राजेश कुमार सिंह ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोबा व प्रयागराज को लिखा है। इसके साथ ही सीओ बिंदकी योगेंद्र सिंह मलिक की प्रारंभिक जांच शुरू कर दी गई है। आइजी राकेश कुमार सिंह ने कल्यानपुर थाने पहुंचकर एसआईटी (विशेष जांच दल)टीम का गठन कर दिया है।कल्यानपुर थाने के एक गांव की एक युवती को शादी का झांसा देकर गांव का ही विमलेश उर्फ हैप्पी सिंह गत 23 फरवरी 2021 को सूरत भगा ले गया था। जब युवती ने शादी का दबाव बनाया तो शादी नहीं की। इसके बाद से युवती लापता हो गई। पीड़ित पिता की गुहार पर डेढ़ माह बाद 3 अप्रैल 2021 को कल्यानपुर पुलिस ने मामले की गुमशुदगी दर्ज की। गुशुदगी की जांच करने वाले उप निरीक्षक महेंद्र वर्मा, उप निरीक्षक यश करन सिंह, उप निरीक्षक संजीव कुमार ने युवती को खोजने का सार्थक प्रयास नहीं किया। रिपोर्ट लगाई कि रंजिशन गांव के विमलेश उर्फ हैप्पी सिंह पर निराधार आरोप लगाया जा रहा है जबकि विमलेश गांव में ही रह रहा है। इस मामले में हैप्पी सिंह का कोई लेना देना नहीं है।इसके बाद इस मामले को उच्च न्यायालय में रिट पिटीशन के रूप में दाखिल किया गया। जिसमें न्यायमूर्ति ने हैवियस कार्पस का आदेश पारित किया। इसके बाद 10 दिसंबर 2021 को कल्यानपुर पुलिस ने एससी-एसटी एक्ट में युवती के अपहरण, जान से मारने की धमकी व साजिश रचने में हैप्पी सिंह, राही सिंह व संजय के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। इसकी विवेचना सीओ बिंदकी योगेंद्र सिंह मलिक को सौंपी गई। इसके बाद भी इस मामले में कार्रवाई न होने पर हाईकोर्ट ने आईजी प्रयागराज को 13 अप्रैल को उपस्थित होने का आदेश दिया है। इस पर आईजी के निर्देश पर तत्काल एसआईटी का गठन किया गया।मामले में लापरवाही बरतने में सीओ बिंदकी योगेंद्र सिंह मलिक के विरुद्ध प्रारंभिक जांच शुरू की गई है। इसके अलावा सीओ की रिपोर्ट पर थाने के एसआई यश करन सिंह, एसआई संजीव कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दियागया है। इसके अलावा तत्कालीन थाना प्रभारी केशव वर्मा वर्तमान तैनाती प्रयागराज व एसआई महेंद्र वर्मा वर्तमान तैनाती महोबा को निलंबित करने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज व महोबा को पत्र भेजा गया है।