यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रेमी से कहकर पत्नी ने ही कराई थी पति की हत्या


🗒 सोमवार, नवंबर 01 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
प्रेमी से कहकर पत्नी ने ही कराई थी पति की हत्या

फतेहपुर, । गाजीपुर कस्बा के पासिनडेरा की घटना पति-पत्नी के पवित्र रिश्ते के लिए कलंक है। नाजायज संबधों की भनक पति को लगने पर पत्नी ने ही प्रेमी के साथ मिलकर अपने सुहाग को मिटा दिया। पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह ने सोमवार दोपहर पत्रकार वार्ता कर सनसनीखेज हत्या का राजफाश किया है और पत्नी व उसके प्रेमी समेत तीन को गिरफ्तार कर लिया है।पासिनडेरा निवासी टेंपो चालक देवराज उर्फ झूरी 26 अक्टूबर की शाम से लापता हो गया था। जिस पर इसकी पत्नी फूलमती ने 27 अक्टूबर को थाने में गुमशुदगी दर्ज करा दी थी। 29 अक्टूबर को पुलिस ने पासिनडेरा स्थित आम के बाग में टेंपो चालक का धड़ बरामद किया था। धड़ व सिर के मिल जाने के बाद जब पत्नी ने पहचान से मना किया था, लेकिन मां ने बेटे की शिनाख्त की थी। उसी दौरान पुलिस को शक हो गया था। पुलिस हिरासत में पत्नी ने स्वीकार किया कि पांच वर्षों से उसका प्रेमी के साथ नाजायज संबध कायम है। छह माह पहले पति को इसकी जानकारी हो गई थी तो वह शराब के नशे में उसे आए दिन पीटता था और मारने की धमकी देता था। इसी दहशत में पत्नी फूलमती ने अपने प्रेमी राजेंद्र उर्फ सिंटू व उसके दोस्त उमेश पासवान के साथ मिलकर हत्या कर दी।हत्यारोपित प्रेमी राजेंद्र उर्फ सिंटू ने बताया कि फूलमती ने कहा था कि पति को मार दो नहीं तो वह उसे मार देगा। जिस पर उसने अपने दोस्त उमेश की मदद से बाग में शराब व गांजा का नशा कराने के बाद देवराज की गला काटकर हत्या कर दी और सिर व कपड़ों को गड्ढे में दफना दिया था।टेंपो चालक का धड़ देखकर पत्नी फूलमती ने शिनाख्त नहीं किया था जबकि मां जगमतिया व भाइयों ने बेटे के दाहिने हाथ में मां का आशीर्वाद लिखा देखकर शिनाख्त कर लिया था। करीब एक घंटे बाद पत्नी ने दिवंगत की शिनाख्त पति के रूप में किया था। तभी पुलिस को पत्नी पर संदेह हो गया था।पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह ने सोमवार दोपहर पत्रकार वार्ता में कहा कि इस तरह की घटना  समाज के लिए कलंक भी। सनसनीखेज हत्याकांड का राजफाश करने वाले एसओ नीरज यादव, एसआई दिनेश कुमार सिंह समेत नौ पुलिस कर्मियों को दस हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा।