यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फतेहपुर में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा नेता पर हमला


🗒 सोमवार, नवंबर 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
फतेहपुर में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा नेता पर हमला

फतेहपुर, । भाजपा प्रदेश अल्पसंख्यक मोर्चा के सह मीडिया प्रभारी फैजान रिजवी पर हमला कर दिया गया। हमले की घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। कार्यकर्ताओं के साथ सदर कोतवाली पहुंचे सदर भाजपा विधायक विक्रम कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। देर शाम पुलिस ने नगरपालिका परिषद चेयरमैन के सभासद पुत्र और प्रतिनिधि समेत 25 लोगों पर डकैती, बलवा व जानलेवा हमला का मुकदमा दर्ज कर लिया।शहर के लाला बाजार निवासी फैजान रिजवी जिला अस्पताल के पास स्थित कब्रिस्तान गए थे। हमले पर जान बचाकर वह कार्यकर्ताओं के साथ सीधे कोतवाली पहुंचे और हमलावरों के खिलाफ तहरीर दी। फैजान का आरोप है कि चेयरमैन पुत्र अपने 15-20 अज्ञात साथियों और सरकारी व प्राइवेट गनर संग आए और मुख्यमंत्री पर अभद्र टिप्पणी की। विरोध पर लात-घूसों से पीटकर चाकू से जानलेवा हमला किया। जेब से 14 हजार 600 रुपये भी निकाल लिए। वह किसी तरह जान बचाकर भागे। विधायक विक्रम सिंह ने कहा कि हमले में हिस्ट्रीशीटर भी अपने गनर के साथ शामिल था जिसका पूरा कसाई गैंग है। उस पर भी कार्रवाई की जाए। शहर कोतवाल अनूप सिंह ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे की फुटेज देखकर चेयरमैन के सभासद पुत्र हाजी रजा, राहत निवासी पनी, शमशाद निवासी मसवानी, प्राइवेट नगर जुनैद निवासी खलीलनगर, गुलाम राइन निवासी तुराब अली का पुरवा व 15-20 अज्ञात पर डकैती, दंगा फैलाने व जानलेवा हमले मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैैं। इधर आरोपित हाजी रजा ने कहा कि उनके प्राइवेट गनर मो. जुनैद की रिश्तेदार कहीं जा रही थी। फैजान ने साथियों के साथ मिलकर उससे अभद्रता की। शिकायत पर प्राइवेट गनर पहुंचा उसे पीटने लगे। खबर मिलने पर वह बीच-बचाव में गए तो फैजान ने अपशब्द कहकर मारपीट का प्रयास किया। राजनीतिक द्वेष से अनर्गल आरोप लगाए जा रहे हैं और जिसने अभद्रता की,उसे सत्ता के इशारे पर बचाया जा रहा है। एसपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि दिनदहाड़े अराजकता फैलाकर मारपीट करने वालों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। हमलावरों पर गुंडाएक्ट के तहत कार्रवाई कर उनकी गिरफ्तारी की जाएगी। सरकारी गनर कांस्टेबल जितेंद्र यादव नगरपालिका परिषद की चेयरमैन को दिया गया है लेकिन चेयरमैन प्रतिनिधि के साथ गनर था और हो रही मारपीट में बीच बचाव में नहीं कर रहा था इसलिए गनर को निलंबित कर दिया गया है।