यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

असलहा फैक्ट्री का किया भंडाफोड़, 30 तमंचे व उपकरण बरामद


🗒 शनिवार, जनवरी 22 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
असलहा फैक्ट्री का किया भंडाफोड़, 30 तमंचे व उपकरण बरामद

फतेहपुर, । विधानसभा चुनाव में खपाने के लिए असलहे तैयार करा रहे दो लोग मलवां पुलिस और स्वाट टीम के हत्थे चढ़ गए। पनई इनायतपुर स्थित खंडहर मकान में संचालित असलहा फैक्ट्री से 26 बने, चार अधबने असलहे, छह जिंदा कारतूस और उपकरण बरामद किए गए हैं। एसपी राजेश कुमार सिंह ने पुलिस टीम को 25 हजार रुपये इनाम दिया है।  मलवां थाना प्रभारी अरविंद कुमार सिंह व स्वाट दारोगा विंध्यवासिनी तिवारी की टीम ने शुक्रवार देर रात पनई इनायतपुर स्थित एक खंडहर मकान में छापा मारा। यहां राहुल पटेल और अवनीश पाल निवासी पनई इनायतपुर को पकड़ा। उनके पास इकट्ठा 315 बोर के 16 तमंचे, 12 बोर के नौ तमंचे, एक असलहा 32 बोर, चार अद्र्धनिर्मित बैरल 315 बोर, कारतूस के साथ उपकरण में कोयला जलाने के लिए पंखा आरी ब्लेड 10, आरी फ्रेम, एक चिमटा, हथौड़ी, फुंकनी, कीला, स्क्रू और दो रेती बरामद की हैं। थाना प्रभारी ने बताया कि दोनों आरोपितों पर आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। राहुल पटेल पर पहले से आर्म्स एक्ट व बलवा व मारपीट का मुकदमा है। असलहा फैक्ट्री संचालक राहुल व अवनीश ने पुलिस को बताया कि आठ माह से असलहे बना रहे थे। चुनाव में इन असलहों को बेचना चाहते थे। इन्हें फतेहपुर के साथ ही बांदा, कौशांबी, रायबरेली तक भेजना था। एक असलहे की कीमत चार से छह हजार रुपये मिल जाती। इसके लिए ग्राहकों की तलाश कर रहे थे। एसपी राजेश कुमार सिंह ने पुलिस लाइन में पत्रकार वार्ता में बताया कि ये सबसे बड़ी असलहा बरामदगी है। पकड़े गए फैक्ट्री संचालक खुद ही असलहा तस्करी भी करते थे। पहली बार पुलिस की गिरफ्त में आए हैं। इन असलहों से चुनाव में गड़बड़ी फैलाने की पूरी आशंका थी लेकिन पुलिस ने इन्हें पहले ही पकड़ लिया।एसपी ने थाना प्रभारी अरविंद कुमार सिंह, स्वाट दारोगा विंध्यवासिनी तिवारी, सहिली चौकी प्रभारी राजेंद्र सिंह, फैक्ट्री एरिया प्रभारी महेंद्र प्रताप सिंह, मुख्य आरक्षी कन्हैयालाल, आरक्षी विवेक कुमार मिश्रा, कुलदीप यादव, अतुल सिंह परिहार, राकेश यादव, अवनीश यादव, नरेंद्र कैथवास, शिवशंकर दुबे को 25 हजार रुपये से पुरस्कृत किया है।