यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला फिरोजाबाद में घर में शौचालय न होने पर शर्म की वजह से छात्रा ने दी जान


🗒 गुरुवार, सितंबर 13 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
जिला फिरोजाबाद में घर में शौचालय न होने पर शर्म की वजह से छात्रा ने दी जान

 दो मंजिला मकान था, मगर शौचालय का कोई इंतजाम नहीं था। खेतों में जाना बेटी को अच्छा नहीं लगता था। इसी बात को लेकर मां से झगड़ा हुआ और उसने गले में फंदा कस जान दे दी।घटना शिकोहाबाद की ग्राम पंचायत रहचटी के मजरा शिव नगर की है।

आगरा में तैनात सिक्योरिटी गार्ड अवनीश की 16 वर्षीय पुत्री हेमा 11 वीं की छात्रा थी। उनका दो मंजिला मकान नई आबादी क्षेत्र में बना है, जहां पत्नी और बच्चे रहते हैं। घर में शौचालय न होने कारण परिजन शौच के लिए खेतों में जाते हैं। बारिश में जलभराव के कारण परेशानियां बढ़ गई।स्थानीय निवासियों के अनुसार, घर में शौचालय बनवाने को लेकर हेमा की बुधवार सुबह मां से कहासुनी हो गई। कुछ देर बाद जब छोटे भाई-बहन स्कूल चले गए और मां पशुओं को बांधने। छात्रा ने दरवाजा बंद कर मां की साड़ी से फंदा बनाकर कस लिया। मां लौटी, तो देखा बेटी फंदे से लटकी है।पुलिस ने शव उतरवाया। एसपी ग्रामीण महेंद्र सिंह का कहना है कि छात्रा बहुत ही संजीदा थी। उसने घर में शौचालय बनवाने के लिए मां से कहा। इसी बात पर विवाद हो गया और उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 

फिरोजाबाद से अन्य समाचार व लेख

» फिरोजाबाद में जमीन के विवाद में पुलिस टीम पर हमला व फायरिंग, छह पुलिसकर्मी घायल

» फीरोजाबाद में युवक को ज्वलनशील प्रदार्थ डालकर जलाया, हालत गंभीर

» शिकोहाबाद में दर्दनाक वारदात, पत्‍नी का कत्‍ल कर भागा सिपाही, गला घोंटने के बाद चार गोलियां मारी

» अब फीरोजाबाद में भी संक्रमितों की संख्‍या बढ़ी, 3 नये मामले, मैनपुरी में भी 3 में पुष्टि

» फीरोजाबाद के भी चार जमातियों में कोरोना पॉजीटिव रिपोर्ट

 

नवीन समाचार व लेख

» हमीरपुर-कोविड से लड़ाई में मिलेगा दस डॉक्टरों का साथ, ट्रेनिंग शुरू

» बांदा-24 को धिक्कार दिवस मनायेगी बौद्ध महासभा

» बांदा-प्रवेश पंजीकरण की अन्तिम तिथि 30 सितम्बर तक

» बांदा-चोरी के ट्रैक्टर सहित दो अभियुक्तों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

» बांदा-आत्मनिर्भर भारत अभियान की सफलता के लिए कमर कसें कार्यकर्ताः रामकेष निषाद