यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फीरोजाबाद जिले में सूरत बनी मुसीबत करतूत करतार की, ‘सजा’ भुगत रहा हमशक्ल


🗒 शनिवार, सितंबर 07 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
फीरोजाबाद जिले में सूरत बनी मुसीबत करतूत करतार की, ‘सजा’ भुगत रहा हमशक्ल

किशोरी के अपहरण में साढ़े तीन साल जेल की हवा खाकर करतार सिंह तो गायब हो गया। किशोरी के साथ दुष्कर्म के मामले में कानून को उसकी तलाश है। पुलिस उसके हमशक्ल को कई बार उठाकर करतार ठहराने की कोशिश कर चुकी है। पुलिस के खौफ से हमशक्ल अपने ही घर में कैद होकर रह गया है।मूलरूप से नगला महादेव, टूंडला (फीरोजाबाद) निवासी करतार सिंह एत्माद्दौला के नरायच में रहता था। फरवरी 2013 में उसने किशोरी को अगवा कर लिया। बरामदगी के बाद किशोरी ने कोर्ट में दुष्कर्म करने का भी बयान दिया। कोर्ट ने अपहरण के आरोप में साढ़े तीन साल कैद की सजा सुनाई। किशोरी के अपहरण में साढ़े तीन साल कैद की सजा काटने के बाद करतार एक सितंबर, 2016 को जेल से रिहा हो गया। दुष्कर्म मामले को लेकर अभियोजन अधिकारी ने हाईकोर्ट में अपील की, जिस पर अदालत ने करतार को एक दिसंबर, 2016 को पेश करने का आदेश दिया। पुलिस ने करतार की तलाश शुरू की। साल भर पहले नरायच में ही पुलिस एक व्यक्ति को पकड़कर ताजगंज थाने की एकता चौकी पर ले आई। पुलिस उसे करतार ठहरा रही थी और वो अपनी सफाई दे रहा था। खुद को मथुरा के बलदेव के नगला बाला का रहने वाला गुरूदीश शरण बता रहे इस व्यक्ति की शक्ल करतार जैसी ही थी। वो यहां कार ड्राइ¨वग करता था। उसने अपना पहचान पत्र भी दिखाया। पीड़ित किशोरी और उसके परिजनों से शिनाख्त कराई। उनके इन्कार करने के बावजूद 36 घंटे बाद उसे छोड़ा। इसके बाद वो विजयनगर के एक व्यवसायी के यहां कार ड्राइवर हो गया। 22 जुलाई को विजयनगर से एक सिपाही उसे फिर करतार समझकर हरीपर्वत थाने ले आया। परिजन और ग्रामीणों ने तमाम साक्ष्य दिखाए। तब भी करीब चार घंटे बाद उसे छोड़ा। गुरुदीश शरण कहते हैं कि अब तो बाहर निकलने पर पुलिस ने डर लगता है। पुलिस के दो बार पकड़ने से उसकी छवि खराब हो गई है। इसलिए नौकरी नहीं मिल रही। एक माह से वह घर ही बैठे हैं।करतार सिंह का सुराग पाने के लिए पुलिस ने हरसंभव प्रयास किए। जेल में रहने के दौरान उससे मिलाई करने वाले साढू कालीचरन और भतीजे को हिरासत में लिया। वे भी करतार के बारे में कोई जानकारी नहीं दे सके। तो करतार को शरण देने का मुकदमा दर्ज कर दोनों को जेल भेज दिया। अब वे जमानत पर हैं। एक कपड़ा शोरूम का कर्मचारी करतार का बचपन का दोस्त था, पुलिस ने उसे भी कई बार उठाया। हालांकि पूछताछ में कोई सुराग नहीं मिला था।इस मामले में 14 अगस्त को पुलिस ने हाईकोर्ट में शपथपत्र देकर करतार की तलाश को अब तक किए गए प्रयास और आगे की कार्रवाई के बारे में अवगत कराया। हाईकोर्ट में 10 से अधिक तारीख पड़ चुकी हैं। दो बार एसएसपी कोर्ट में पेश हो चुके हैं। करतार पर 50 हजार का इनाम घोषित है। घर की कुर्की हो चुकी है। केंद्रीय गृह मंत्रलय को भी रेड कार्नर नोटिस के लिए रिपोर्ट जा चुकी है।

फिरोजाबाद से अन्य समाचार व लेख

» फिरोजाबाद में जमीन के विवाद में पुलिस टीम पर हमला व फायरिंग, छह पुलिसकर्मी घायल

» फीरोजाबाद में युवक को ज्वलनशील प्रदार्थ डालकर जलाया, हालत गंभीर

» शिकोहाबाद में दर्दनाक वारदात, पत्‍नी का कत्‍ल कर भागा सिपाही, गला घोंटने के बाद चार गोलियां मारी

» अब फीरोजाबाद में भी संक्रमितों की संख्‍या बढ़ी, 3 नये मामले, मैनपुरी में भी 3 में पुष्टि

» फीरोजाबाद के भी चार जमातियों में कोरोना पॉजीटिव रिपोर्ट

 

नवीन समाचार व लेख

» अवैध तमंचे व दो जिंदा कारतूस के युवक गिरफ्तार

» प्रदेश महासचिव एडवोकेट बनवारी लाल मौर्य जी का भव्य स्वागत

» 95 बटालियन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का अभियान आज भी पूरी निष्ठा के साथ जारी रखा

» दलित वर्ग की लड़की के साथ दो दबंगों द्वारा छेड़छाड़ व दुराचार की कोशिश करने पर मुकदमा दर्ज

» लेखपाल और प्रधान की मिली भगत से खलिहान की सुरक्षित जमीन पर कराया जा रहा अवैध निर्माण