मुख्तार अंसारी के करीबी गणेशदत्त के दो शस्त्र लाइसेंस निरस्त

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मुख्तार अंसारी के करीबी गणेशदत्त के दो शस्त्र लाइसेंस निरस्त


🗒 मंगलवार, जुलाई 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मुख्तार अंसारी के करीबी गणेशदत्त के दो शस्त्र लाइसेंस निरस्त

गाजीपुर,। मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी श्रीराम कालोनी निवासी गणेशदत्त मिश्रा के दो शस्त्र लाइसेंसों को कोतवाली पुलिस ने निरस्त कर दिया। जिलाधिकारी को पत्र लिखने के साथ ही दोनों शस्त्रों को नियमानुसार कोतवाली के मालखाने में जमा भी करा लिया गया है। वहीं करीमुद्दीनपुर पुलिस ने मुख्तार अंसारी के गैंग से जुड़े महेंद गांव निवासी दिलशाद खां एवं मुहम्मदाबाद पुलिस ने कोतवाली क्षेत्र के मर्दहां वार्ड नंबर-20 निवासी गोल्डन उर्फ इम्तियाज को जिला बदर घोषित किया है। चेताया कि अगर जिले में दिखे तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।मुख्तार अंसारी, उसके रिश्तेदार, करीबी व सहयागियों के खिलाफ जिला प्रशासन व पुलिस की कार्रवाई महीनों से लगातार चलती आ रही है। विदित हो कि मुख्तार के अति करीबी गणेशदत्त मिश्रा के पिता शिवशंकर मिश्रा के नाम से श्रीराम कोलानी में स्थित छह मंजिला आलीशान मकान काे पोकलेन से जिला प्रशासन ने बीते दिनों ध्वस्त कर दिया था। इसकी कीमत चार करोड़ बताई गई। वहीं मंगलवार को गणेशदत्त के एक राइफल और एक पिस्टल के लाइसेंस को निरस्त कर माल खाने में जमा करा दिया। इसके अलावा मुख्तार अंसारी के गैंग आईएस- 191 से जुड़े उसके गुर्गे करीमुद्दीनपुर के महेंद गांव निवासी दिलशाद खां व मुहम्मदाबाद कोतवाली के मर्दहां वार्ड नंबर-20 निवासी गोल्डन उर्फ इम्तियाज को जिला बदर घोषित किया। मुख्तार के खिलाफ लगातार चल रही चौतरफा कार्रवाई से संबंधितों में खलबली मची हुई है।वाराणसी जोन के 10 जिलों में मऊ सदर सीट के विधायक व बांदा जेल में निरुद्ध मुख्तार अंसारी के गिरोह पर लगातार शिकंजा कसता जा रहा है। वाराणसी, मऊ, गाजीपुर, आजमगढ़ और बलिया सहित अन्य जिलों में मुख्तार व उसके गिरोह की 140 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति ध्वस्त की गई। पुलिस का कहना है कि ये अपराध से कमाई गई संपत्ति थी। साथ ही इस गिरोह की 85 करोड़ की संपत्ति गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्त की गई है।एडीजी जोन बृज भूषण शर्मा ने बताया कि पूर्वांचल में प्रतिबंधित थाई मांगुर मछली के अवैध कारोबार, रंगदारी व सरकारी विभागों के ठेके हथियाने पर रोक लगाकर मुख्तार गिरोह को करीब 61 करोड़ की आर्थिक चोट पहुंचाई गई।