यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़, ताबड़तोड़ फायरिंग में तीन सिपाहियों समेत सात को गोली लगी


🗒 शुक्रवार, अप्रैल 29 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़, ताबड़तोड़ फायरिंग में तीन सिपाहियों समेत सात को गोली लगी

गोरखपुर, । लूट व टप्पेबाजी करने वाले कटिहार (बिहार) के रहने वाले चार बदमाशों को कैंट पुलिस ने शुक्रवार की देर रात गोरखपुर छावनी रेलवे स्टेशन के पास घेर लिया। बदमाशों की ओर से पुलिस पर सात राउंड फायरिंग की गई जिसमें एक गोली कैंट थाने की जीप, एक थानेदार के बुलेट प्रूफ जैकेट में लगी और तीन सिपाहियों के हाथ को छूते हुए निकल गई। क्राइम ब्रांच की टीम के साथ घेराबंदी कर सभी बदमाशों के पैर में गोली मारकर पुलिस ने पकड़ा। उन्हें मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। घायल हुए सिपाहियों काे प्राथमिक उपचार के बाद डाक्टर ने छुट्टी दे दी है।अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने मुठभेड़ में बदमाशों को पकड़ने वाली पुलिस टीम को एक लाख रुपये पुरस्कार देने की घोषणा की है।एसएसपी डा. विपिन ताडा ने बताया कि प्रभारी निरीक्षक कैंट शशिभूषण राय को शुक्रवार की रात में 12 बजे सूचना मिली कि लूट व टप्पेबाजी करने वाले गिरोह के चार बदमाश बाइक से छावनी रेलवे स्टेशन के पास घूम रहे हैं। क्राइम ब्रांच की टीम को बुलाकर उन्होंने घेराबंदी की तो बाइक सवार बदमाश फायरिंग करते हुए भागने लगे। खुद को बचाते हुए क्राइम ब्रांच की टीम के साथ कैंट पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की जिसमें सभी बदमाशों के पैर में गोली लग गई।गिरफ्तार करने के बाद पुलिस उन्हें मेडिकल कालेज ले गई। पूछताछ में उनकी पहचान कटिहार जिले के कोठा थानाक्षेत्र स्थित जोराबगंज गांव निवासी करन, वीरेंद्र, शिवा और हैरान के रुप में हुई।उनके कब्जे से नाइन एमएम की दो पिस्टल, छह खोखा, दो कारतू, एक 315 बोर का तमंचा एक खोखा, तीन मोबाइल फोन, लूट के 55 हजार रुपये, डिग्गी तोड़ने में इस्तेमाल होने वाला लोहे का नुकिला उपकरण और घटना में इस्तेमाल होने वाली दो बाइक मिली। छानबीन में पता चला कि पकड़े गए बदमाश गोरखपुर के साथ ही पूर्वांचल के विभिन्न जिलों में आकर लूट व टप्पेबाजी की वारदात करते हैं। पूर्व में देवरिया जिले से जेल जा चुके हैं।खलीलाबाद में लूट की है। गोरखपुर में उन्होंने चार वारदात करने की बात कबूल की है जिसमें जिसमें कौड़ीराम और कैंपियरगंज में हुई लूट भी शामिल है।