यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नेपाल से चुराई गई थी भगवान बुद्ध की 1200 साल पुरानी मूर्ति, गिरफ्तार


🗒 मंगलवार, जुलाई 19 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
नेपाल से चुराई गई थी भगवान बुद्ध की 1200 साल पुरानी मूर्ति, गिरफ्तार

गोरखपुर, । भगवान बुद्ध की 1200 साल पुरानी अष्टधातु की मूर्ति नेपाल से चुराई गई थी। जीआरपी थाना गोरखपुर के प्रभारी ने फरार चल रहे गिरोह के सरगना को सुबह गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने मूर्ति के बारे में जानकारी दी। दोपहर बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया जहां से जेल भेज दिया गया। मूर्ति के साथ गिरोह के चार सदस्यों को जीआरपी ने सात पहले गिरफ्तार कर मामले का पर्दाफाश किया था।भारी निरीक्षक जीआरपी थाना उपेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि 16 दिसंबर 2021 को अष्टधातु की भगवान बुद्ध की मूर्ति के साथ चार बदमाश पकड़े गए थे। जिसमें दो गोरखपुर, एक बिहार व एक झारखंड के रहने वाले थे। छानबीन में पता चला कि 1200 साल पुरानी मूर्ति को नेपाल से चुराकर लाया गया था जिसे झारखंड में बेचने की योजना थी।पकड़े गए आरोपितों ने बताया था कि गुलरिहा थानाक्षेत्र स्थित जैनपुर गांव के रामपुर टोला निवासी विजय कुमार से यह मूर्ति उन्हें मिली थी। वहीं विजय को जैनपुर गांव के पास गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में उसने अपना जुर्म कबूल किया।दोपहर बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया जहां से जेल भेज दिया गया। वारदात में शामिल रहा पीपीगंज का बनारसी साथियों की गिरफ्तारी के बाद से ही फरार है।जीआरपी ने अष्टधातु की मूर्ति के साथ पीपीगंज के बढ़नी निवासी शैलेंद्र कुमार, गीडा क्षेत्र के हरैया निवासी प्रहलाद प्रसाद, झारखंड के सरायकेला जिले के आदित्यपुरी निवासी सोनू कुमार और बिहार, सिवान के रघुनाथपुर निवासी सुधीर मिश्रा को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में विजय व बनारसी का नाम सामने आया था।