यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी के मंत्री ने लोगों को किया सतर्क, कहा- अफवाह फैलाने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई


🗒 शुक्रवार, मार्च 20 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री व गोरखपुर प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री ने कोरोना वायरस को लेकर फैलाए जा रहे अफवाहों को लेकर डीएम व एसएसपी से सतर्क रहने का निर्देश दिया है। कहा कि सोशल मीडिया की लगातार निगरानी कराई जाए और अफवाह फैलाने पर कड़ी कार्रवाई हो। उन्होंने सभी सार्वजनिक स्थलों पर हाथ धोने की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है।गोरखपुर सर्किट हाउस सभागार में मंत्री ने कोरोना वायरस से बचाव संबंधी कार्यों की समीक्षा बैठक में उन्होंने विभिन्न विभागों से जानकारी ली। डीएम ने मंत्री को अवगत कराया कि जिला चिकित्सालय, मेडिकल कॉलेज व एयरफोर्स में मरीजों के इलाज के लिए आइसोलेशन वार्ड रिजर्व रखा गया है। अभी तक जनपद में कोरोना का कोई भी मरीज नहीं मिला है। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी से ग्रामीण क्षेत्रों व नगर आयुक्त से नगरीय क्षेत्रों के सार्वजनिक स्थलों पर हाथ धुलवाने व सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था करने का निर्देश दिया।प्रभारी मंत्री ने कहा कि रेलवे, बस स्टेशन समेत सभी सरकारी दफ्तरों में आने वाले आगंतुक कार्यालय में घुसने से पहले हाथ जरूर धुलें, इसके लिए सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था करा ली जाए। उन्होंने बेसिक शिक्षा अधिकारी और जिला विद्यालय निरीक्षक से भी स्कूलों के बारे में जानकारी ली। मंत्री ने पूछा कि प्राइवेट स्कूल बंद हैं या खुले हैं। अगर कोई प्राइवेट स्कूल खुला मिले तो उसके प्रबंधतंत्र के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उर्वरक की दुकानों पर अगर सैनिटाइजर उपलब्ध न हो तो किसानों का हाथ डिटॉल या साबुन से जरूर धुलवाएं। बैठक में डीएम के. विजयेंद्र पांडियन, एसएसपी डॉ. सुनील गुप्त, सीडीओ हर्षिता माथुर, जीडीए उपाध्यक्ष अनुज सिंह, नगर आयुक्त अंजनी सिंह आदि मौजूद रहे।कोरोना वायरस से बचाव को लेकर रजिस्ट्री महकमा भी सतर्क है। पहले ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट लेना होगा उसके बाद तय समय पर सिर्फ संबंधित व्यक्ति को ही कार्यालय में प्रवेश मिलेगा। रजिस्ट्री प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही दूसरे व्यक्ति को रजिस्ट्री कार्यालय में प्रवेश मिलेगा। एडीएम वित्त राजेश सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए यह व्यवस्था बनाई गई है। इससे कार्यालय में अनावश्यक भीड़ नहीं बढ़ेगी। रजिस्ट्री कार्यालयों में अन्य कार्यालयों की अपेक्षा अधिक भीड़ होती है। ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट व्यवस्था के तहत रजिस्ट्री के लिए अलग-अलग समय दिए जाएंगे। मसलन अगर राम नाम के व्यक्ति को दोपहर 12 बजे का समय दिया गया है तो 12 बजे रजिस्ट्री दफ्तर में सिर्फ राम और साथ में गवाह और विक्रेता को ही प्रवेश मिलेगा। पहली रजिस्ट्री पूरी हो जाने के बाद ही दूसरे व्यक्ति को प्रवेश मिलेगा। सहायक महानिरीक्षक कमलेश शुक्ल ने बताया कि सभी कार्यालयों को एक बार में केवल एक ही बैनामे के पक्षकारों को प्रवेश के निर्देश दिए गए हैं।कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पुलिस कार्यालय में कोरोना को लेकर गुरुवार को व्यवस्था बदल दी गई। कोरोना से बचाव के हर संभव उपाय किए जा रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के कक्ष में फरियादियों के लिए रखी गई 22 कुर्सियों में 14 को हटा दिया गया। शेष बची आठ कुर्सियों की दूरी बढ़ा दी गई। एक दिन पहले तक एक साथ एक दर्जन फरियादी बुलाए जाने का नियम बदल दिया गया और आज एक फरियादी को ही अंदर जाने की अनुमति दी गई। कप्तान ने पुलिस लाइन के आरआइ (प्रतिसार निरीक्षक) को निर्देश दिया कि जिले के सभी थानों में तैनात पुलिसकर्मियों को कोरोना से बचाव का प्रशिक्षण दिलाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। इस कार्य के लिए पुलिस अस्पताल के डॉक्टर मुकेश को जिम्मेदारी भी सौंपी। कहा कि कोरोना से बचाव के लिए पुलिसकर्मियों में पंपलेट वितरित किए जाएं। जिले में कोरोना के मरीज मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की मांग पर प्रशिक्षित पुलिसकर्मी ही भेजे जाएं।  पुलिस अधीक्षक नगर, एसपी साउथ व एसपी नार्थ ने भी बदली व्यवस्था के तहत दो मीटर दूर बैठकर फरियाद सुनी।कोरोना वायरस से लोग इतने डरे हुए हैं कि साधारण सर्दी, जुकाम, बदन दर्द और सांस फूलने की समस्या पर खौफजदा हो जा रहे हैं। दो दिन के भीतर पुलिस कंट्रोल रूम में छह फोन इसी तरह के आ चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ पहुंची पुलिस ने तस्दीक की तो शिकायत गलत मिली। कोरोना को लेकर लोग इतने चिंतित व भयभीत हैं कि अपने आसपास रहने वाले किसी व्यक्ति को सर्दी, जुकाम, खांसी व तेज बुखार होने पर पुलिस कंट्रोल रूम में फोन कर कोरोना से संक्रमित होने की सूचना दे दे रहे हैं। ऐसी कुछ सूचनाओं पर स्वास्थ्यकर्मियों के साथ पुलिस पहुंची। जांच में पता चला कि मौसम बदल रहा है, ऐसी परेशानियां सामान्य तौर पर हो जाती हैं।कोरोना के संक्रमित मरीज मिलने की सूचना पर पीआरवी व स्थानीय थाने की पुलिस मौके पर नहीं जाएगी। सूचना स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दी जाएगी। स्वास्थ्य विभाग की टीम को जरूरत महसूस होने पर पुलिस को भेजा जाएगा। एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता ने गुरुवार को इस संबंध में आदेश जारी किए।

यूपी के मंत्री ने लोगों को किया सतर्क, कहा- अफवाह फैलाने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई

गोरखपुर से अन्य समाचार व लेख

» कुशीनगर में मदरसा संचालक सहित तीन के खिलाफ मुकदमा, गोरखपुर में 14 जमातियों की तलाश

» गोरखपुर मे सीएम योगी आदित्‍यनाथ पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले पर मुकदमा दर्ज

» गोरखपुर में संक्रमण से जिस युवक की हुई थी मौत, उसका करीबी भी निकला कोरोना संक्रमित

» सोशल मीडिया WhatsApp व Facebook पर अफवाह के लिए एडमिन होंगे जिम्मेदार

» प्रदेश संरक्षक का किया गया जोरदार स्वागत

 

नवीन समाचार व लेख

» केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में लगाई गई थी आग, अज्ञात पर दर्ज हुई एफआइआर

» भाजपा सांसद सुब्रत पाठक पर गर्म हुई सियासत, अखिलेश, मायावती और अजय कुमार ने निंदा की

» प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी में भाजपा के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से फोन से बातचीत की

» यूपी सरकार के मंत्री हालात पर चिंतित निशाने पर तब्लीगी जमात

» बांदा -समाजसेबी पीसी पटेल रोजाना गरीबों को बांट रहे हैं सब्जी