यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दोस्‍तों ने ही ईंट भट्टा पर मजदूर को बुलाकर उतार दिया था मौत के घाट


🗒 मंगलवार, नवंबर 16 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
दोस्‍तों ने ही ईंट भट्टा पर मजदूर को बुलाकर उतार दिया था मौत के घाट

गोरखपुर, । गुलरिहा पुलिस ने ईंट भट्टा मजदूर मनोहर की हत्या कर शव दफनाने वाले तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।मजदूर को ईंट भट्टे से ले जाने का विरोध व पिटाई का बदला लेने के लिए आरोपितों ने दीपावली की रात जुआ खेलने के बहाने बुलाकर मनोहर की गला दबाकर हत्या कर दी थी।आरोपितों की निशानदेही पर घटना में इस्तेमाल डंडा बरामद हुआ।सीओ चौरीचौरा अखिलानंद उपाध्याय ने पुलिस लाइन में प्रेस वार्ता कर यह जानकारी दी।उन्होंने बताया कि मंगलपुर तिनहिया के पास धान के खेत में दफनाना गया युवक का शव मिला। जिसकी पहचान झारखंड के गुमला जिला स्थित घाघरा, गोरियाडीह निवासी मनोहर उरांव के रुप में हुई। वह मंगलपुर में स्थित सरहरी गांव के पूर्व प्रधान के वीर मार्का ईंट भट्ठे पर काम करता था। मनोहर के चचेरे भाई सोमनाथ ने मंगलपुर के तिनहिया स्थित दादा मार्का ईंट भट्टा पर काम करने वाले गुमला, घाघरा के शिवसरेन, राजेश और कार्तिक के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराया था।प्रभारी निरीक्षक गुलरिहा चंद्रहास मिश्रा ने तीनों को ईंट भट्टा से गिरफ्तार कर लिया।पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि मनोहर के साथ काम करने वाले एक मजदूर को अधिक पैसा दिलाने के लिए वह लोग अपने साथ ले जाना चाहते थे। लेकिन वह विरोध करने लगा।दबाव बनाने पर तीनों को पीट दिया। इसका बदला लेने के लिए उसकी हत्या करने की योजना बनाकर दीपावली की रात जुआ खेलने के बहाने बुलाकर गला दबाकर हत्या कर दी।वीर मार्का ईंट भट्टे के पूरब तरफ खेत में रविवार की सुबह कुत्ते लड़ाई करने के साथ ही मिट्टी खोद रहे थे। खेत में काम कर रहे लोग पहुंचे तो उन्हें जमीन में गड़ा शव दिखा।सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से शव को बाहर निकलवाया तो उसकी पहचान दीपावली की रात से लापता चल रहे मनोहर उरांव के रुप में हुई।