यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बेटा-बेटी के सा‍थ युवक ने कर लिया था आत्‍मदाह


🗒 शुक्रवार, दिसंबर 03 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बेटा-बेटी के सा‍थ युवक ने कर लिया था आत्‍मदाह

गोरखपुर, । गीडा के सरया निवासी 60 वर्षीय लालचंद कन्नौजिया के आंसू एक दिसंबर से नहीं रुक रहे हैं। जवान बेटा व मासूम पोता-पोती के मौत से वह पूरी तरह टूट गए हैं। दो दिसंबर को उन्हें ही राजघाट पर तीनों को दफनाकर अंतिम संस्कार करना था। अपने आंसुओं को रोककर किसी तरह उन्होंने बेटे का शव तो कब्र में डाल दिया, लेकिन जैसे ही आठ वर्षीया पोती अन्नपूर्णा व पांच वर्षीय पोते शेषनाथ के शव को हाथ में लिया, वह दहाड़े मारकर रोने लगे। घाट पर मौजूद लोगों से स्पष्ट कह दिया कि मुझसे न होगा। ईश्वर इतना बड़ा मेरा इम्तिहान न ले। इन बच्चों का शव दफन करने से पहले वह उनको उठा ले।लालचंद रोते-रोते बेहोश हो गए। उन्हें किसी तरह से होश में लाया गया। उसके बाद उन्होंने दोनों बच्चों को दफनाकर अंतिम संस्कार किया। बता दें एक दिसंबर को मदन कन्नौजिया ने अपने दोनों बच्चों को कमरे में बंद करके आत्मदाह कर लिया था। इससे तीनों की मौत हो गई थी। मौत का कारण कुछ लोग गृहकलह बता रहे हैं तो मदन के भाई मोहन का कहना है कि मदन की मानसिक स्थिति अच्छी नहीं थी। उसकी गोरखपुर में दवा चल रही थी। मदन का चार दिन पहले पत्नी पूजा से किसी बात पर विवाद हो गया था।पूजा अपने मायके चली गई थी। इससे मदन अपनी दवा भी समय से नहीं ले पा रहा था। लोग आशंका व्यक्त कर रहे हैं कि गहन अवसाद के चलते उसने बच्चों के साथ खुद को कमरे में बंद कर आग लगा लिया होगा। इससे तीनों की मौत हो गई होगी। पत्नी पूजा का भी रो-रोकर बुरा हाल है। वह बुधवार से ही खुद को कोस रही है। अंतिम संस्कार के दौरान घाट पर गंगेश्वर सिंह, हीरालाल गुप्ता और गीडा के प्रभारी निरीक्षक विनय कुमार सरोज रहे।

गोरखपुर से अन्य समाचार व लेख

» ऑनलाइन गहने मंगाकर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, दो गिरफ्तार

» खेत की रखवाली करने गई युवती से सामूहिक दुष्कर्म

» पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर की थी पति की हत्या

» दारोगा भर्ती परीक्षा में नकल करने वाले दो अभ्यर्थी गिरफ्तार

» संदिग्ध परिस्थितियों में मिला युवती का शव