यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रधान के भाई की हत्या पर्दाफाश दो हत्यारोपितों गिरफ्तारी


🗒 शनिवार, मार्च 12 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
प्रधान के भाई की हत्या पर्दाफाश दो हत्यारोपितों  गिरफ्तारी

गोरखपुर, । गोरखपुर जिले के सिकरीगंज के नकौड़ी खास के ग्राम प्रधान गुड्डू सिंह के परिवार पर दबाव बनाने के लिए हत्यारोपितों ने उनके चचेरे भाई अशोक सिंह की हत्या की थी। पुलिस ने इसका पर्दाफाश दो हत्यारोपितों की गिरफ्तारी के बाद किया है। हालांकि घटना में शामिल मुख्य आरोपित सहित चार आरोपित अभी भी फरार हैं। अशोक पर जिस बंदूक से हमला किया गया, अभी तक उसकी भी बरामदगी नहीं हो सकी है। पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपित सहित अन्य आरोपितों की तलाश जारी है। उनके गिरफ्तार होते ही घटना में प्रयोग किया गया असलहा भी बरामद हो जाएगा।जनपद के सिकरीगंज के डेहरा टीकर में बुधवार को शराब की भट्ठी के सामने पहले से घात लगाकर बैठे आरोपितों ने गोली मारकर अशोक कुमार सिंह की हत्या कर दी थी। पुलिस ने मृतक के स्वजन की तहरीर पर जगरनाथपुर निवासी श्याम उपाध्याय, सोनू उर्फ जितेंद्र, मोनू उर्फ अरविंद, संदीप उपाध्याय, ओरी प्रसाद, गोरख के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया।पुलिस अधीक्षक दक्षिणी ने अपने कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि पुलिस ने हत्यारोपितों की तलाश में जुटी थी। इसी बीच सिकरीगंज के भूमिधर चौराहे पर पुलिस ने आरोपित श्याम उपाध्याय व गोरख को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि ग्राम प्रधान गुड्डू सिंह व आरोपित सोनू के परिवार में कई पीढ़ियों से जमीनी विवाद चल रहा है। सोनू के पट्टीदारी में कई पीढ़ियों पूर्व एक विधवा महिला ने अपनी भूमि ग्राम प्रधान के पर बाबा को बेच दिया था। उनकी कोई संतान न होने के कारण सोनू का परिवार कई पीढ़ियों से उस भूमि पर अपना दावा कर रहा है। इसे लेकर मामला न्यायालय में भी लंबित है। भूमि को लेकर प्रधान पर दबाव बनाने के लिए सोनू व उसके साथियों ने ग्राम प्रधान के चचेरे भाई की हत्या की। उसकी प्रमुख वजह थी कि गुड्डू का अधिकांश कार्य अशोक देखता था।सोनू ने निर्णय लिया कि वह यदि अशोक को रास्ते से हटा दे तो ग्रामप्रधान के परिवार पर हमेशा उनका दबाव कायम रहेगा, लेकिन उसके इरादे को स्वजन पहले ही भांप गए थे। इसके चलते उन्होंने सोनू को दिल्ली कामकाज के सिलसिले में भेज दिया था, लेकिन उसके पिता को कुछ दिन पहले चोट लग गई थी और आरोपित उस बहाने गांव आया और वहां उसने अपने साथियों के साथ मिलकर योजना बनाई। सोनू की ही भांति श्याम उपाध्याय व संदीप उपाध्याय को भी ग्राम प्रधान से खुन्नस थी। इसे लेकर आरोपितों ने बुधवार की रात अशोक को गोली मार दी।