यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

स्टेशन पर पानी न मिलने से दो यात्री हुए बेहोश


🗒 गुरुवार, मई 30 2019
🖋 सुमित शिवहरे, ब्लाकमौदहा संवाददाता हमीरपुर

भरुआ सुमेरपुर : बरौनी से चलकर जबलपुर जा रही चित्रकूट एक्सप्रेस के यात्रियों को रेलवे स्टेशन में पानी नहीं नसीब हो सका। मंगलवार रात बरौनी से लखनऊ के रास्ते होकर आई चित्रकूट एक्सप्रेस जबलपुर जाने के लिए रात 10 बजकर 2 मिनट पर प्लेटफार्म नंबर एक पर आकर रुकी। ट्रेन के रुकते ही उसमें सवार यात्री प्लेटफार्म पर उतरकर पानी के लिए इधर से उधर दौड़ने लगे। लेकिन प्लेटफार्म के किसी भी कोने में उन्हें पानी नसीब नहीं हुआ। क्योंकि प्लेटफार्म नंबर एक के दोनों हैंडपंप खराब है। छह पानी के स्टैंड में लगी टोटियां खराब हैं। इनकी टोटियों में लकड़ी ढूंसकर हमेशा के लिए स्थाई रूप से बंद कर दिया गया है। एक मात्र वाटर कूलर में रात को पानी नहीं था। इस आपाधापी में कानपुर निवासी 58 वर्षीय रामचंद्र गुप्ता, उन्नाव निवासी 55 वर्षीय रमेश कुमार गश खाकर प्लेटफार्म पर गिर पड़े। दोनों को साथी यात्रियों ने बेहोशी हालत में बोगी में चढ़ाया। इसी बीच 10 बजकर 4 मिनट पर ट्रेन आगे के लिए रवाना हो गई और यात्री मन मसोस कर बगैर पानी पिए ट्रेन में चढ़ने को मजबूर हो गए। स्टेशन मास्टर एसके शुक्ला ने बताया कि प्लेटफार्म में लगे दोनों हैंडपंप रीबोर की स्थिति में है। इसके लिए पत्र लिखा गया है। वाटर प्वाइंट की जिन टंकियों में टोटियां लगी है। उनमें सप्लाई दी जाती है। वाटर कूलर एक होने के कारण ट्रेनों के खड़े होते ही लंबी लाइन लग जाती है। इस वजह से तमाम यात्री पानी लेने से वंचित रह जाते है।

स्टेशन पर पानी न मिलने से दो यात्री हुए बेहोश

जबलपुर बरौनी एवं बरौनी जबलपुर एक्सप्रेस का प्रतिदिन आना जाना है। औसतन प्रतिदिन इन दोनों ट्रेन में 8 सौ से लेकर एक हजार यात्रियों का उतरना चढ़ना होता है। इसके अलावा सप्ताह में दो दिन बेतवा एक्सप्रेस का सुबह शाम आना जाना होता है। इसमें सुबह शाम दो सौ से तीन सौ यात्रियों का औसतन आना जाना है। इसके अलावा दोपहर व शाम को कानपुर से इलाहाबाद व इलाहाबाद से कानपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस का चित्रकूट धाम कर्वी होकर आना जाना है। इन दोनों ट्रेनों में दोपहर शाम को औसतन एक हजार से 15 सौ यात्रियों का इस समय उतरना चढ़ना होता है। इन गाड़ियों के अलावा सुबह खजुराहो से कानपुर तथा कानपुर से मानिकपुर पैसेंजर आती जाती है। शाम को भी इन दोनों ट्रेनों का आना जाना है। इन दोनों ट्रेनों में सैकड़ों यात्रियों का सुबह शाम उतरना चढ़ना होता है। औसतन सभी ट्रेनों में प्रतिदिन सुबह शाम रात एवं दोपहर में चार से पांच हजार यात्रियों का आना जाना हो रहा है।

प्लेटफार्म नंबर दो पर धूप से सिर छिपाने के साथ साथ पानी बिजली का कोई इंतजाम नहीं है। दोनों प्लेटफार्मों में पुरुष एवं महिलाओं के लिए कोई शौचालय नहीं है। तमाम यात्री रेलवे स्टेशन की शिकायत पुस्तिका में शिकायत दर्ज कराने की कोशिश करते हैं पर ड्यूटी पर तैनात रेलवे कर्मी उन्हें तरह तरह के बहाने बनाकर लिखित में शिकायत देने की बात कहकर टकरा देते हैं। दैनिक रेलवे यात्री बबलू वर्मा, जीतेंद्र कुमार, राकेश कुमार, राजकुमार, प्रदीप कुमार, सुरेश कुमार, राममनोहर, महेश कुमार आदि ने बताया रेलवे स्टेशन पर सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं है।

हमीरपुर से अन्य समाचार व लेख

» पॉलिटेक्निक के लिए जमीन देगी पालिका

» डीएम ने दिए दो दिन में थोक सब्जी मंडी हटाने के निर्देश

» हमीरपुर मौदहा निर्माणाधीन मकान के लैट्रिन टैंक में गिर जाने से हुई बालक की मौत

» हमीरपुर शमसान घाट में संदिग्ध परिस्थितियों में पड़ा मिला सिपाही का शव

» हमीरपुर के सुमेरपुर मे ईद के एक दिन पहले भतीजे ने चाची की सोते समय कर दी हत्या

 

नवीन समाचार व लेख

» तिलोक पुरवा मंदिर के निकट बीती रात हुआ भीषण एक्सीडेंट दो की मौत एक घायल।

» क्रांतिकारी जनसंघर्ष मोर्चा सामाजिक संगठन ने किया बृक्षारोपण।

» आगरा मे अनबन पर प्रेमिका ने खाया जहर; अस्पताल में देखने पहुंचे प्रेमी के परिवार को लड़की के घरवालों ने पीटा

» जिला गोंडा में भाजपा के बूथ अध्यक्ष पर कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला, हालत गंभीर

» अब गलत शिकायत पर दंड के प्रावधान पर पुनर्विचार करेगा चुनाव आयोग