यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

इस बार 182 हेक्टेयर जमीन पर तुलसी की खेती का लक्ष्य


🗒 रविवार, जून 02 2019
🖋 सुमित शिवहरे, ब्लाकमौदहा संवाददाता हमीरपुर

हमीरपुर। बारिश शुरू होते ही किसान खेतों में तुलसी के पौधों की रोपाई शुरू कर देंगे। तुलसी की खेती कर रहे चार हजार किसानों ने ऑनलाइन आवेदन किया है। शासन ने राज्य आयुष मिशन योजना के तहत उद्यान विभाग के जरिये औषधीय खेती करने वाले किसानों को लाभांवित करने की योजना संचालित की है। जिसके तहत चालू वित्तीय वर्ष में शासन ने तुलसी की खेती के लिए 182 हेक्टेयर क्षेत्रफल का लक्ष्य निर्धारित किया है।उद्यान विभाग की ओर से औषधीय खेती के किए जा रहे प्रयासों की वजह से जिले में धीरे धीरे किसानों की संख्या बढ़ती जा रही है। हालांकि करीब आठ साल पूर्व आर्गेनिक इंडिया कंपनी के कर्मचारियों के प्रयास से गोहांड, राठ व सरीला ब्लाक क्षेत्रों के गांवों में शुरू कराई गई थी। तब करीब हर गांव में तुलसी की खेती के लिए 30 किसानों का अनुबंध कराया गया था। इधर कुछ सालों से कंपनी मदद करने से हाथ पीछे खींचने लगी है। इसके पीछे का कारण किसानों द्वारा बहुतायत में तुलसी की खेती करना है। 

इस बार 182 हेक्टेयर जमीन पर तुलसी की खेती का लक्ष्य

हालांकि किसान कहते हैं कि तुलसी की खेती लाभदायक है। कंपनी से हुए करार के अनुसार 9200 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से इसकी सूखी पत्तियां खरीद लेते हैं। इधर शासन स्तर से पिछले कई कुछ वर्ष से सूखे से गुजर रहे किसानों को बागवानी और औषधीय खेती के लिए अनुदान देना शुरू किया है। बीते वित्तीय वर्ष में शासन ने 40 हेक्टेयर पर तुलसी की खेती करने वालों को अनुदान दिया था। लेकिन इस बार औषधीय खेती में सर्वाधिक तुलसी के लिए 182 हेक्टेयर क्षेत्रफल का लक्ष्य दिया है। वहीं 20 हेक्टेयर में ऐलोबेरा व 5 हेक्टेयर में सतावर पैदा कराए जाने पर अनुदान लक्ष्य निर्धारित किया है। जिल में निजी नलकूपों की संख्या 18400 होने पर आसानी से पानी उपलब्ध होने पर ज्यादातर किसान परंपरागत खेती से हटकर औषधीय खेती के साथ बागवानी अपने रहे हैं। 

तुलसी और ऐलोबेरा पर मिलेगा 30 फीसदी अनुदान 

उद्यान विभाग में वर्ष 2019-20 में चार हजार किसानों ने तुलसी व ऐलोबेरा की खेती करने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया है। किसानों को 30 फीसदी अनुदान मिलेगा। 182 हेक्टेयर में तुलसी, ऐलोबेरा 20 हेक्टेयर व सतावर की खेती के लिए पांच हेक्टेयर लक्ष्य दिया है। सहायक उद्यान निरीक्षक घनश्याम सोनकर ने बताया कि इस योजना से औषधीय करने के इच्छुक किसान यूपी एग्रीकल्चर डाट कॉम पर अपना पंजीयन करा सकते हैं। पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किसानों को लाभांवित किया जाएगा। 

अधिकतम दो हेक्टेयर तक मिलेगा अनुदान 

तुलसी व ऐलेबेरा की खेती पर अधिकतम दो हेक्टेयर तक अनुदान मिलेगा। एक हेक्टेयर में तुलसी की खेती में आने वाली 43 हजार 923 रुपये की लागत में विभाग 13 हजार 180 रुपये अनुदान देगा। इसी तरह ऐलोबेरा में 62 हजार 424 रुपये प्रति हेक्टेयर लागत में विभाग 18 हजार 727 रुपये अनुदान दे रहा है। सतावर में प्रति हेक्टेयर 91,506 रुपये लागत आंकी गई है। जिसमें उद्यान विभाग किसानों 27,450 रुपये अनुदान देगा। 

शासन ने तुलसी की खेती का लक्ष्य 182 हेक्टेयर दिया है। किसानों की संख्या को देखते हुुए पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किसानों को लाभांवित किया जाएगा। जो भी किसान औषधीय खेती कर लाभांवित होना चाहते हैं वह अपना आनलाइन पंजीयन कराएं। 

हमीरपुर से अन्य समाचार व लेख

» जिला हमीरपुर के पवई के शियामाता मंदिर में की जा रही साठ जोड़ो की शादियाँ

» हमीरपुर मौदहा जिलाअधिकारी के तमाम प्रयासों के बावजूद खनन थमने का नाम नहीं ले रहा है

» दिनदहाड़े नगदी और जेवर समेट ले गए चोर

» आचार संहिता समाप्त, थाना दिवस हुए आयोजित

» सीमा पर तैनात रक्षक के परिवार के साथ हुई मारपीट की घटना को जांच करने पहुंचे दरोगा ने पीड़ित महिलाओं से किया अभद्रता

 

नवीन समाचार व लेख

» सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या समेत लंबित हैं कई बड़े धार्मिक व राजनीतिक मामले

» मेरठ मे दुल्हन भी होगी और रिश्तेदार भी लेकिन सब फर्जी शादी के अगले ही दिन नगदी लेकर फरार

» बाराबंकी में बंकी रेल ट्रैक के पास एक महिला का संदिग्ध परिस्थितियों में शव मिला

» मथुरा में पुलिस प्रशासन द्वारा शहर की व्यवस्थाओं का किया निरीक्षण,

» मथुरा के गोवर्धन में शोभायात्रा के बीच मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव संपन्न - आन्यौर के गोविंद कुंड पर धार्मिक आयोजन