यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

हमीरपुर ज़िले में औरैया हादसे का बड़ा असर देखने को मिला


🗒 शनिवार, मई 16 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड

हमीरपुर ज़िले में औरैया हादसे का बड़ा असर देखने को मिला है यहां बॉर्डर पर पैदल और ट्रकों में सफर कर रहे हजारो मजदूरों को रोक रोक कर रोडवेज बसों में बैठा कर उनके घरो को र,वाना किया गया है । बॉर्डर में जिला और पुलिस प्रशासन मुस्तैदी से जुटा हुआ है 

हमीरपुर ज़िले में औरैया हादसे का बड़ा असर देखने को मिला

यह हमीरपुर को दिल्ली से जोड़ने वाले हाइवे पर हमीरपुर  और जालौन जिलो का बॉर्डर है जहां से गुजरात और महाराष्ट्र से हजारो की तादाद में मजदूर पैदल और ट्रकों में भर कर अपने घरो की तरफ जा रहे थे इन सब को जिला प्रशासन और पुलिस द्वारा  बसों में बैठा कर बांदा, महोबा चित्रकूट  को भेजा जा रहा है ।

 

पैदल और ट्रकों में जा रहे लोगो को रोक कर उन्हें लाई चना और पानी पिलाने के बाद रोडवेज बसों से भेजा जा रहा है जिसके लिये रोडवेज फ्री यात्रा की सुविधा दे रहा है । रोडवेज की बसे बांदा , चित्रकूट, महोबा की तरफ भेजा जा रहा है । कोई पैदल यात्रा नही करेगा इसका लाउड स्पीकर से एलान भी किया जा रहा है 

 

 पैदल और ट्रकों से सैकड़ो किलोमीटर का सफर कर अपने घरो को जा रहे लोगो को ट्रकों से उतार कर बसों में बैठा कर भेजने से यह मजदूर बहुत खुश है और प्रशासन की तारीफ कर रहे है 

आज सुबह औरैया ज़िले में हुई सड़क दुर्घटना में 25 मजदूरों की मौत के बाद सतर्क हुये प्रशासन ने पैदल और  ट्रकों में सवार ही अपने घरो की तरफ जा रहे मजदूरों को रोक रोक कर सरकारी बसों में बैठा कर भेजना शुरू कर के पी प्रवासी मजदूरों को बड़ी राहत दी है । कोरोना को लेकर हुये लॉक डाउन से रोजी रोटी के लिये परेशान हुये मजदूर किसी भी तरह अपने घरो तक पहुंचना चाह रहे है और रास्ते मे हादसों का शिकार हो कर जान गवा रहे है ।

हमीरपुर से अन्य समाचार व लेख

» हमीरपुर -रिटायर्ड फौजी के पीएम में हुई देरी, ग्रामीणों ने की रोड जाम

» मौदहा -ढोंगी बाबा ने ली समाधि, पहुंच गए थाने

» बुंदेलखंड क्रांति दल के जिला संयोजक हमीरपुर नियुक्त किए गए

» हमीरपुर: सपाइयों ने बांटी समाजवादी संदेश पत्रिका की प्रतियां

» हमीरपुर: एक बार फिर हुआ टिड्डी दल का हमला, ग्रामीणों ने बजाई ढोल और थालियां