यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

विराेध पड़ा महंगा पोकलैंड मसीन से महिला को घसीटा -अवैध खनन


🗒 सोमवार, नवंबर 01 2021
🖋 अजय कुमार शुक्ला, ब्यूरो प्रमुख हमीरपुर
विराेध पड़ा महंगा पोकलैंड मसीन से महिला को घसीटा -अवैध खनन
सरीला (हमीरपुर) निजी भूमि से अवैध खनन का विराेध करने एवं इसकी  शिकायत एसडीएम से करने के चलते भड़के खनन माफियाओं  ने खेत में काम कर रहे मजदूर महिला के ऊपर पोकलैंड मसीन चढ़ाने की कोसिस पोकलैंड मसीन में दबने से महिला हुई बुरी तरह घायल  महिला को डायल 112 ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सरीला में भर्ती कराया है जहाँ महिला का उपचार चल रहा है घायल महिला के भतीजे सुखराम व देवरानी कमोदरानी ने मशीन चढा़कर घायल करने का आरोप लगाया है।सूचना मिलते ही सीओ विवेक यादव ने सीएचसी पहुचकर महिला का हाल चाल लिया है साथ ही एसडीएम खालिद अंजुम व सीओ विवेक यादव ने मौके पर जाकर घटना का जायजा लिया 
 
जलालपुर थाना क्षेत्र के  रिरुआ बुजुर्ग गांव में बेतवा नदी मोरंग खदान के आस पास कुछ किसानों की निजी भूमि है किसानों का आरोप है कि खदान संचालक उनकी निजी भूमि में जबरन अवैध खनन कर रहे हैं, इस घटना में घायल महिला किसान सिमकुर पत्नी लल्ला निषाद, हरीदास सहित तेरह किसानों ने शुक्रवार को एसडीएम सरीला खालिद अंजुम से लिखित शिकायत कर खनन माफियाओं पर जबरन निजी भूमि से खनन करने का आरोप लगाया था तथा तत्काल खनन रोके जाने की मांग की थी,एसडीएम ने सीओ विवेक यादव को जांच के लिए लिखा था 
 
  रविवार को पुनः जब खदान संचालकों ने खनन शुरू किया तो जानकारी होते ही सिमकुर सहित सभी किसान मौके पर पहुंच गए और भूमि को निजी बताते हुए विरोध किया  जिससे वहां पर मौजूद पोकलैंड चालक उग्र हो गया आरोप है कि चालक ने  दबंगई दिखाते हुए  दहसत कायम करने के उद्देश्य से खेत मे काम रही सिमरन 45 पत्नी लल्ला  को पोकलैंड मशीन के बोकेट की चपेट में ले लिया जिससे महिला काफी दूर तक घिसटती चली गई और बुरी तरह से घायल हो गई,इस घटना के बाद मौके पर अफरा तफरी मच गई और मशीन चालक भी भाग खड़ा हुआ  मौके पर पहुंची डायल 112 ने घायल महिला को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सरीला में भर्ती कराया तो वहीं   ग्रामीणों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई  खबर है की ग्रामीणों ने वहाँ मौजूद वाहनों पर भी तोडफ़ोड़ की है और घन्टो हंगामा चला है।
 
 ग्रामीण मूलचन्द मोहन सुखराम शिवदास के अनुसार बेतवा नदी के जिस हिस्से में खंड हुआ है वहाँ पर रेत कम है और औ क्वालिटी भी  अच्छा नही है  जिसके चलते  बालू माफि‍या नही के आसपास के खेतों की  जमीन के नीचे से जबरन अवैध खुदाई करने लगे हैं। इसका विरोध करने पर वे लोग जमीन मालिक के साथ मारपीट शुरू कर देते हैं हद तो तब हो गई जब खेतों पर काम कर रही महिला पर पोकलैंड मसीन चढ़ा दी और कोई कार्रवाई नही हुई इस पूरे मामले से गांव में हड़कंप मचा है
 
क्षेत्रीय  प्रशासन के लाख दावे के बावजूद इलाके में ओवरलोडिंग और अवैध खनन नहीं रुक रहा है। बेतवा नदी की कोंख छलनी करने के बाद  अब बालू माफिया की नजर आसपास की जमीन के नीचे दबे बालू पर भी जा टिकी है। माफिया पिछले एक सफ्ताह से खंड संचालाक   खेतों में जबरन खुदाई कर रेत की बिक्री कर रहे हैं। जिससे किसानों के खेत बर्बाद हो रहे है  जिसके चलते बेतवा नदी के आसपास के इलाकों में लगातार तनाव की स्थिति बन रही है। वही घटना की सूचना के बाद एसडीएम खालिद अंजुम ने पुलिस क्षेत्राधिकारी विवेक यादव तहसीलदार श्याम नारायण शुक्ला  मौके का मुआयना किया है।वही मामले को गंभीता से लेते हुए एसडीएम सरीला खालिद अंजुम ने फिलहाल खेतों से खनन बंद करा दिया है सीओ विवेक यादव का कहना है कि एसडीएम ने शनिवार को टीम भेजकर पैमाइश कराई है मगर किसान मानने को तैयार नहीं है उन्होंने महिला किसान पर मशीन चढा़ने के आरोप को गलत बताया है, फिलहाल मौके पर खनन कार्य रोक दिया गया है।इंस्पेक्टर विनोद कुमार का कहना है कि घटना की जांच की जा रही है।
एसडीएम खालिद अंजुम ने बताया कि  तहसीलदार सरीला के नेतृत्व में विवादित भूमि के जांच की आदेश दिए हैं जांच में पांच लेखपाल व जिले से खनन सर्वेयर की टीम साथ नवम्बर के बाद टीम जांच करेगी तब तक विवादित स्थल पर खनन को बंद करा दिया है  कि क्षेत्र में अवैध खनन और भारी पोकलेन मशीन और ओवर लोडिंग वाहन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ऐसे वाहनों पर कार्रवाई की जाएगी