यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मौरंग माफिया भुलसी केन नदी का सीना चीर निकाल रहे लाल सोना


🗒 गुरुवार, जनवरी 20 2022
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
मौरंग माफिया भुलसी केन नदी का सीना चीर निकाल रहे लाल सोना

हमीरपुर। मौरंग में हमेशा चर्चित रहने वाला सिसोलर क्षेत्र जो अवैध खनन को लेकर  सरकार की खनन नीति को माफियाओ ने फेल कर दिया सारे नियम कानून कायदो को ताक पर रखकर नदियो का रात दिन सीना चीरकर भारी मशीनो से मौरंग निकाली जा रही है । सरकार की खनन नीति व एन जी टी के नियम के अनुसार नदी किनारे व नदी की जलधारा प्रभावित कर खनन करना पुर्ण रूप से अवैध है ताजा मामला हमीरपुर जनपद की केन नदी से सामने आया है। न्यायालय से प्रतिबंधित पोकलैंड मशीनों का प्रयोग करके के नदी किनारे बड़े बड़े झील नुमा गडढे कर दिये गए है जिससे नदी की भौगोलिक स्थिति खराब हो रही है आपको बता दे कि हमीरपुर के मौदहा तहसील की केन नदी पर खण्ड संख्या 30/2, भुलसी पर अवैध खनन कर रहे है ।जिसके कारण नदी किनारे झील नुमा गडढे हो गये है और ये खनन माफिया नदी की जल धारा को प्रभावित कर रात में अवैध खनन कर रहे है जबकि एन जी टी के नियानुसार नदी की जल धारा या नदी किनारे प्राकृतिक संरचना से कोई छेड़ छाड़ नही की जा सकती है। जिसके बावजूद ये खनन माफिया जलधारा से रेत निकाल रहे है। कब होगी इन खनन माफियाओं पर कायर्वाही ... जिले की पट्टाटाधारकोने अवैध खनन करने के लिये अपने पट्टे माफियाओ के हवाले कर दिये है। जो मनचाहा अवैध खनन कर हैं । भारी मशीने रात दिनगरजती रहती है।

 हमीरपुर जिले के केन नदी में जहाँ इटेंडरिंग के माध्यम से खनन पट्टे स्वीकृत किये गये है जहाँ मानक के विपरीत खण्ड संख्या 30/2 खण्ड में अवैध खनन किया जा रहा है इस खण्ड में एन जी टी के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए हैवी पोक लैंड आधा दर्जन मशीनों से खनन करके नदी की भौगोलिक स्थिति व जलधारा को प्रभावित किया जा रहा है नदी में गहरे झील नुमा गडढे कर दीये गये है जबकि शासन के आदेशानुसार नदी किनारे 3 मीटर से अधिक मोरम खनन नही किया जा सकता है.