यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

युवक की पिटाई से आहत महिला ने लगाई फांसी


🗒 सोमवार, सितंबर 06 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
युवक की पिटाई से आहत महिला ने लगाई फांसी

हरदोई, । जिले में एक युवक द्वारा पिटाई और आरोपित पर कोई कार्रवाई न होने से आहत महिला ने फांसी लगाकर जान दे दी। रविवार की रात बाथरूम में उसका शव लटकता पाया गया। महिला के साथ उसके जानने वाले युवक ने शनिवार को घर में घुसकर मारपीट की और उसका मोबाइल उठा ले गया। इसके बाद मोबाइल लेने के लिए शाम को युवक ने महिला को बुलाया और यहां भी मारपीट की। इस घटना से आहत महिला ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। बताया जाता है कि महिला ने मामले की जानकारी सीओ को भी दी। इसके बाद लौटकर उसने अपनी फेसबुक आईडी पर आपबीती लिखी। उसने लिखा कि कई बार शिकायत के बावजूद पुलिस ने मेरी घटना को गंभीरता से नहीं लिया, मैं फांसी लगाकर जान देने जा रही हूं। माधौगंज कस्बे के मुहल्ला आजादनगर निवासी मनोज गुप्ता किराए के मकान में रहता है और उसकी सब्जी मंडी में दुकान है। मुहल्ले के ही युवक लवी त्रिवेदी का उसके घर आना जाना था, शनिवार को लवी उसके घर आया था। मनोज गुप्ता की पत्नी रोली गुप्ता का आरोप था कि लवी त्रिवेदी ने घर में घुसकर उसके साथ मारपीट की औऱ उसका मोबाइल, 90 हजार रुपये व मंगलसूत्र उठा ले गया। शाम को उसने फोन कर रोली को रेलवे स्टेशन के पास मोबाइल लेने के लिए बुलाया था। रोली अपने आठ वर्षीय बेटे निशांत के साथ वहां गई थी तो उसने वहां पर भी मारा पीटा था। रोली की बेटी काजल के मुताबिक, मां ने बताया था कि लवी के साथ उसके माता पिता भी थे। उन लोगों ने भी मां को मारा। इस घटना के बाद मां थाने गई। उसने तहरीर लिखी तो पुलिस कर्मियों ने मां से दूसरी तहरीर लिखने के लिए कहा। फिर घर में घुसने और मोबाइल उठा ले जाने के बाद मारपीट करने की तहरीर लिखवाकर एफआइआर दर्ज कर ली। शनिवार को ही मां का मेडिकल हुआ, लेकिन मां कार्रवाई से संतुष्ट नहीं थी और रविवार को वह सीओ के पास बिलग्राम गई। वहां पर भी उन्होने प्रार्थना पत्र दिया। काजल के अनुसार शाम को मां लौटकर आईं तो लवी ने फोन कर फिर धमकी दी। पिता सब्जी मंडी दुकान देखने चले गए। रात करीब साढ़े नौ बजे बाथरूम में उन्होंने फांसी लगा ली। जब तक दरवाजा तोड़ा गया तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। रात में ही पुलिस पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।फांसी लगाने के पहले रोली ने अपनी फेसबुक आईडी पर अपने साथ हुई पूरी घटना का जिक्र किया। उसने लिखा कि उसके साथ हुई घटना की बहुत सारी एफआइआर माधौगंज थाने पर पड़ी है, लेकिन उसमें कोई कार्रवाई नहीं हुई। थाने पर लिखो कुछ और लिखवाया कुछ और जाता है। उसके साथ भी ऐसा ही हुआ। उसने आनलाइन शिकायत भी की थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ। इज्जत लूटने की कोशिश, जान लेने का प्रयास हो चुका है। उसने लिखा कि उसके परिवार या उसे कुछ हुआ तो पूरी जिम्मेदारी सरकार की होगी और इतना लिखने के बाद उसने अपनी पोस्ट को शेयर करने के लिए कहा। रोली के जान देने के बाद सोमवार को स्वजन और उसकी बेटी द्वारा उसकी पोस्ट सामने आई।  रोली के साथ हुई मारपीट और जान देने के मामले में थानाध्यक्ष अमरजीत ने बताया कि तहरीर के आधार पर ही पुलिस ने कार्रवाई की थी। जो उसने लिखकर दिया उसी पर एफआइआर दर्ज की गई। आरोपित को हिरासत में भी ले लिया गया था। तहरीर बदलवाना या फिर कार्रवाई न करने का आरोप गलत है।

हरदोई से अन्य समाचार व लेख

» पुलिस ने ढोल पिटवाकर कुर्क कराई 25 लाख की संपत्ति

» ज्‍वैलर्स से सरेशाम बड़ी लूट, 15 किलो चांदी लूटकर फरार हुए बदमाश

» पानी में डुबोकर मारने के बाद पत‍ि ने ही किया था दफन, पति गिरफ्तार

» इंटरनेट मीडिया पर फोटो अपलोड करने पर युवक को मारा चाकू, आरोपित फरार

» इसरो के वैज्ञानिक की पत्नी को बंधक बनाकर 20 लाख की लूट