यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

हाथरस मे जमीन जाने से क्षुब्ध किसान ने चकबंदी अधिकारी के सामने दे दी जान


🗒 शनिवार, अगस्त 31 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सासनी तहसील के गांव शेखूपुर अजीत में कब्जा दिलाने गई राजस्व व चकबंदी टीम के सामने ही 75 वर्षीय किसान ने सल्फास खाकर जान दे दी। वह जमीन छिनने से क्षुब्ध थे।शेखूपुर मदन के ओमप्रकाश ङ्क्षसह (75) ने आत्मघाती कदम उठाया। ओमप्रकाश के दो बेटे हैं धर्मवीर ङ्क्षसह व भारतेंद्र। इनका अपने चचेरे भाइयों नेत्रपाल व बृजेश से कई साल से जमीन का विवाद चल रहा है। नेत्रपाल व बृजेश गाजियाबाद रहते हैं। उनका आरोप था कि ताऊ के परिवार ने उनकी जमीन को अपने रकबे में मिला लिया है। ढाई बीघा जमीन का विवाद था। कुछ महीने पहले डीडीसी (उप संचालक चकबंदी) कोर्ट ने नेत्रपाल के पक्ष में आदेश जारी किया।शुक्रवार को चकबंदी अधिकारी महेश ङ्क्षसह के नेतृत्व में टीम गांव पहुंची। पैमाइश के बाद ट्रैक्टर से मेड़बंदी कराई जा रही थी। ओमप्रकाश व उनके बेटों ने इसका पुरजोर विरोध किया। विरोध बेअसर होते देख ओमप्रकाश ट्रैक्टर के सामने खड़े हो गए तथा सल्फास खा ली। टीम के होश उड़ गए। हालत बिगडऩे पर परिजनों में चीख-पुकार मच गई। आनन-फानन एंबुलेंस से उन्हें जिला अस्पताल लाया गया, जहां ओमप्रकाश को मृत घोषित कर दिया गया। मौत की खबर से परिवार में कोहराम मच गया। देर शाम धर्मवीर व भारतेंद्र ग्रामीणों के साथ कोतवाली हाथरस जंक्शन पहुंचे तथा राजस्व टीम व चचेरे भाइयों को जिम्मेदार ठहराते हुए तहरीर दी।

हाथरस मे जमीन जाने से क्षुब्ध किसान ने चकबंदी अधिकारी के सामने दे दी जान

हाथरस से अन्य समाचार व लेख

» गांव नगला बाबू मैं बिजली विभाग की तरफ से लगाया गया कैंप

» अधेड़ ने दवा समझकर खाया विषाक्त

» हाथरस में बेटा न होने पर दो बेटियों की मां की हत्या

» राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं भ्रष्टाचार निवारण टीम हाथरस के सभी पदाधिकारियों ने डॉक्टर प्रियंका रेड्डी को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पण की और कैंडिल मार्च निकला

» सादाबाद-जलेसर मार्ग पर नाले में मिले महिला के शव की शिनाख्त

 

नवीन समाचार व लेख

» जालौन मे घर में बुजुर्ग पिता की नृशंस हत्या करने के बाद पुत्र भाग निकला

» BHU में इस बार देर रात महिला प्रोफेसर के साथ छेड़खानी का प्रयास, मामला लंका थाने में दर्ज

» प्रियंका गांधी वाड्रा ब‍िजनौर हिंसा में मारे गए युवकों के घर पहुंचीं कहा- भारतीयता का सुबूत मांगने की इजाजत नहीं

» पश्चिम बंगाल जाकर सच्चाई देखें सपा विधायक - स्वतंत्र देव सिंह

» प्रदेश में उपद्रवियों की पहचान के बाद उनकी संपत्ति नीलाम करने की प्रक्रिया शुरू