यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

हाथरस में एक करोड़ रुपये के गांजा सहित तीन शातिर तस्कर दबोचे


🗒 शुक्रवार, जुलाई 16 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
हाथरस में एक करोड़ रुपये के गांजा सहित तीन शातिर तस्कर दबोचे

हाथरस,। कोतवाली सासनी पुलिस ने शुक्रवार को गांजा तस्करी करने वाले तस्करों की कमर तोड़ दी। पुलिस ने चेकिंग के दौरान गुरुवार की देर रात लोर्हरा बंबे की पुलिया के पास चेकिंग के दौरान एक मैक्स पिकअप गाड़ी को पकड़ लिया। पुलिस ने गाड़ी से एक करोड रुपये कीमत का 615 किलो गांजा बरामद कर लिया। पुलिस ने गांजा तस्करी करने वाले तीन शातिर तस्करों को भी पकड़ा। पुलिस अधीक्षक की ओर से पुलिस टीक को 25 हजार रुपये का पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की।कोतवाली सासनी इंस्पेक्टर गौरव सक्सेना लोर्हरा बंबा की पुलिया के पास अपनी टीम के साथ चेकिंग कर रहे थे। तभी चेकिंग के दौरान एक मैक्स पिकअप गाड़ी को पुलिस ने रोक लिया। गाड़ी में भारी मात्रा में गांजा सहित तीन शातिर तस्कर पुलिस की पकड़ में आए। पूछताछ के दौरान तस्करों ने अपना नाम गीतम सिंह व राजेश कुमार निवासीगण गांव विधैपुर थाना सासनी तथा जितेंद्र कुमार निवासी गांव पढ़ील,थाना इगलास बताया। तस्करों के पास से मिले 615 किलोगा्रम गांजे की कीमत करीब एक करोड रुपये है।पिछले लंबे समय से तीनों तस्कर चोरी छिपे गांजे की तस्करी कर रहे थे। हाथरस सहित आसपास के जिलों में गांजे को तीनों तस्कर पुडिया बनाकर फुटकर में लोगों को बेचते थे। गांजे की सप्लाई तस्करों द्वारा केरल से पूरी कराई जाती थी। गाड़ियों के जरिए ही केरल से तीनों तस्कर गांजा मंगाते थे। गांजा मंगाने के बाद तस्कर किराए पर मकान लेते थे। जहां रात के समय तस्कर गांजे को रखते थे। पुलिस की नजर से बचते हुए तीनों तस्कर गांजा तस्करी का काम कर रहे थे।युवा पीढ़ी को गांजा पीने की लत लग जाने के कारण इसकी डिमांड जिले तथा आसपास के जिलों में अधिक है। गांजा तस्करी करने वाले गिरोह की जड़े इतनी मजबूत हैं कि पुलिस के द्वारा लगातार कार्रवाई किए जाने के बाद भी गांजे का काम खूब हो रहा है। पूर्व में सिकंदराराऊ, सादाबाद और कोतवाली हाथरस गेट पुलिस के द्वारा भारी मात्रा में गांजा पकड़ा जा चुका है।