यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सट्टा और गर्लफ्रेंड पर खर्चे के लिए किया वृद्धा का अपहरण


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सट्टा और गर्लफ्रेंड पर खर्चे के लिए किया वृद्धा का अपहरण

हाथरस, । कोतवाली सदर क्षेत्र में घंटाघर के पास से सोमवार को अपहृत हुई वृद्धा को पुलिस ने तीन घंटे में सकुशल बरामद कर लिया है। एक युवक ने अपने दो साथियों संग जल्दी पैसा कमाने, सट्टा और गर्लफ्रेंड पर खर्चे के लिए इस घटना को अंजाम दिया था। स्वजन की सूचना के बाद पुलिस ने देर रात तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।एसपी विनीत जायसवाल मंगलवार दोपहर पुलिस कार्यालय पर प्रेसवार्ता में घटना की खुलासा किया। उन्होंने बताया कि सोमवार की शाम को घंटाघर हलवाई खाना हाथरस निवासी शैलेश दीक्षित ने पुलिस को सूचना दी कि उसकी 65 वर्षीय मां सुनीता दीक्षित घर से भागवत कथा सुनने के लिए 'अपना वाली धर्मशाला' में गई थीं। वहां से वापस नहीं लौटी। उन्हें काफी तलाश किया, लेकिन कहीं भी पता नहीं चला। देर शाम अनजान नंबर से एक व्यक्ति का काल आया जिसने शैलेष से उसकी मां का अपहरण कर लेने की बात कही, और उन्हें छोड़ने के बदले 80 लाख रुपये की फिरौती की मांग की। पुलिस को खबर पर देने मां को जान से मारने की धमकी दी गई। एसपी ने आरोपितों काे पकड़ने के लिए टीम गठित कीं। कोतवाली पुलिस के साथ-साथ एसओजी व सर्विलांस टीम को भी लगाया। एसओजी टीम तथा थाना कोतवाली सदर पुलिस ने तीन अपहरणकर्ताओं की गाड़ी की चंदपा क्षेत्र में घेराबंदी कर उन्हें देर रात दबोच लिया। पकड़े गए अभियुक्तों में सौरभ पुत्र मनोज कुमार निवासी जवाहर थाना इगलास जनपद अलीगढ़, ऋषि शर्मा पुत्र सन्जू व नितिन पुत्र करन सिंह निवासीगण गांव करील थाना मुरसान हाथरस शामिल थे। पुलिस ने आरोपितों से वृद्धा को भी सकुशल बरामद कर लिया। गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से तमंचा-कारतूस व घटना में प्रयुक्त मोबाइल फोन व इको गाड़ी बरामद की गई है। अपहृता का मेडीकल परीक्षण कराकर स्वजन के सुपुर्द कर दिया है।एसपी के अनुसार अभियुक्तों ने पूछताछ में बताया कि सौरभ अग्रवाल अपने गांव में परचून की दुकान करता है। अपने पिता की सवारी गाड़ी ईको भी चलाता है। ऋषि और नितिन उसके दोस्त हैं। वह जल्दी ही ढेर सारा पैसा कमाना चाहता था। सौरभ सट्टा लगाने का आदी है, और गर्लफ्रेंड पर काफी खर्चा भी करता है। उसने मकान भी दिलाना था। अपना खर्च चलाने के लिए दोस्तों को भी पैसे का लालच देकर तीनों ने अपहरण की योजना बनाई। इसके लिए सौरभ ने 15 दिन पहले ही नया मोबाइल फोन व सिम खरीदा था। घटना से एक दिन पहले गिरफ्तार अभियुक्त सौरभ भागवत कथा में आया था। उसने यहां वृद्ध महिला को चिह्नित कर उसके अपहरण की प्लानिंग की। सौरभ ने उनसे जान पहचान बढ़ाई। जानकारी कर वृद्धा से उसके बेटे का नंबर ले लिया। सोमवार को सौरभ भागवत कथा में आकर वृद्धा से मिला तथा अपनी मां से मिलाने का बहना बनाकर उन्हें भागवत कथा से बाहर लेकर आ गया। यहां उसकी गाड़ी में पहले से ही गाड़ी दोनों दोस्त बैठे हुए थे। अपहृता को ईको गाडी में बिठा लिया तथा अपहरण कर हाइवे पर इधर-उधर घुमाते रहे। अपहृता के बेट से बार-बार फोन कर पैसों की मांग कर रहे। एसओजी और पुलिस ने उन्हें घेराबंदी कर दबोच लिया।तीनों आरोपित युवा हैं और 10वीं-12वीं तक पढ़ाई की है। जल्द पैसा कमाने के लिए साैरभ ने क्राइम पेट्रोल सीरियल देखकर वृद्धा के अपहरण की योजना बनाई। दोनों दोस्तों को साथ लेकर घटना को अंजाम दिया।