यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ से तसल्ली देने वाली खबर कोरोना पीड़ि‍त महिला डॉक्टर की हालत में सुधार, केजीएमयू में भर्ती पति व बच्चे हुए डिस्चार्ज


🗒 शुक्रवार, मार्च 13 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

एक तरफ जहां कोरोना को लेकर देश भर में भय का माहौल है, वहीं लखनऊ से तसल्ली देने वाली खबर है। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) में 11 मार्च को भर्ती की गई कोरोना से पीडि़त पहली महिला मरीज की तबियत काफी बेहतर है। उन्हें अस्पताल में बनाए गए इंफेक्शियस डिजीज वार्ड में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। वह लैपटॉप पर अपना काम कर रही हैं और सामान्य रूप से खाना-पीना खा रही हैं।मेडिसिन विभाग के डॉ. डी. हिमांशु ने बताया कि महिला को फिलहाल किसी तरह की समस्या नहीं है। वह कनाडा में की रहने वाली हैं। वहां डॉक्टर हैैं और अपने पति व बच्चे के साथ कनाडा से लंदन, मुंबई होते हुए लखनऊ पहुंची थीं। आठ मार्च को उन्हें बुखार व गले में खराश की दिक्कत हुई तो उन्होंने केजीएमयू में संपर्क किया। जांच में कोरोना की पुष्टि हुई। इसके बाद से उन्हें अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में ही रखा गया है। एहतियात के तौर पर पति व बच्चे की जांच कराई गई है। उनकी जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। हालांकि उन्हें घर पर ही अलग रहने की सलाह दी गई है। उनके संपर्क में आए दस अन्य लोगों की जांच रिपोर्ट भी निगेटिव आई है।डॉ. हिमांशु ने बताया कि महिला मरीज का शुक्रवार को नमूना पुन: जांच के लिए भेजा है, जिसकी रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। डॉक्टर ने कहा कि 48 घंटे के उपरांत एक और सैंपल भेजा जाएगा। यदि मरीज के लगातार दो सैंपल नेगेटिव आते हैं तो वह संक्रमण से मुक्त मानी जाएगी।उधर, केजीएमयू में नौ और संदिग्ध भर्ती हैैं, जिनकी जांच कराई गई है। इसके अलावा दो संदिग्धों की जांच रिपोर्ट सुबह नेगेटिव आई थी जिन्हें छुट्टी दे दी गई है। डॉ. हिमांशु ने कहा कि केजीएमयू में डॉक्टर्स की टीम पूरी मुस्तैदी से अपना काम कर रही है। यदि किसी भी व्यक्ति को जरूरत पड़ती है तो वह सीधे ही केजीएमयू में न्यूरोलॉजी विभाग के ठीक सामने इंफेक्शियस डिजीज वार्ड की दूसरी मंजिल पर संपर्क कर सकता है। यहां डॉक्टरों की टीम 24 घंटे मौजूद रहती है। उन्होंने दोहराया कि डरने की कोई जरूरत नहीं है। अफवाहों पर कतई ध्यान न दें, लेकिन सावधानी अवश्य बरतें।  केजीएमयू के मेडिसिन विभाग के डॉ. डी. हिमांशु के मुताबिक लखनऊ एयरपोर्ट पर तैनात एक कर्मचारी को भी बुखार और गले में खराश महसूस होने के बाद केजीएमयू में भर्ती कराया गया है। इसी तरह राजस्थान से लौटे एक व्यक्ति को बुखार ने जकड़ लिया। सर्दी-जुकाम भी है। बेंगलुरु से लौटे यात्री को भी भर्ती किया गया है। फ्रांस के सैलानी के संपर्क में आने के बाद एक अन्य व्यक्ति को भी भर्ती कराया गया है। डॉ हिमांशु ने बताया कि ज्यादातर मरीज विदेशी लोगों के संपर्क में आने के बाद भर्ती कराए जा रहे हैं।

लखनऊ से तसल्ली देने वाली खबर कोरोना पीड़ि‍त महिला डॉक्टर की हालत में सुधार, केजीएमयू में भर्ती पति व बच्चे हुए डिस्चार्ज

स्वास्थ सुझाव से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ में बंद रहेंगे बाजार, कोरोना वायरस को रोकने के लिए व्यापारियों का समर्थन

» यूपी में दो और पॉजिटिव केस, मुरादाबाद-नोएडा में मिले संक्रमित, संख्या पहुंची 25

» कोरोना वायरस इलाज में कोताही पर दर्ज होगी FIR, 12 फरवरी के बाद विदेश से आए लोगों की होगी जांच

» UP के महोबा में 8 बच्चे खसरा टीका लगते ही बीमार, कानपुर में रुबेला टीके से 70 की हालत बिगड़ी

» टीबी का दो साल पहले ही पता लगा लेगी नई जांच

 

नवीन समाचार व लेख

» भाजपा सांसद सुब्रत पाठक पर एससीएसटी एक्ट समेत दस धाराओं में केस

» कानपुर शहर में जमाती के संपर्क में आए व्यक्ति का बेटा भी कोरोना पॉजिटिव, संख्या हुई 11

» प्रतापगढ़ में तीन और जमाती कोरोना वायरस से संक्रमित, पॉ‍जिटिव मरीजों की संख्‍या छह पहुंची

» इलाहाबाद हाई कोर्ट का पावर कॉरपोरेशन पीएफ घोटाले के आरोपितों को जमानत देने से इनकार

» लखीमपुर में कोटे की दुकान पर दिनदहाड़े ताबड़तोड़ फायरिंग, पिता-पुत्र की हत्या