यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

छत के मलबे में दबने से मजदूर की मौत


🗒 सोमवार, सितंबर 05 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
छत के मलबे में दबने से मजदूर की मौत

जालौन, । स्थानीय छत्रसाल इंटर कालेज में जर्जर कमरे की छत तोड़ते समय मजदूर गिर गया। ऊपर से मलबा गिरने से मजदूर मलबे के नीचे दब गया।आनन फानन में उसे सीएचसी ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। स्वजन ने मजदूर के शव को इंटर कालेज के सामने रखकर जाम लगा दिया। अधिकारियों के समझाने पर जाम खुल सका।छत्रसाल इंटर कालेज के भवन का निर्माण स्वतंत्रता के पूर्व 1940 हुआ था। सात वर्षों में स्कूल का कुछ हिस्सा जर्जर हो चुका है। ऐसे में जर्जर हिस्से को गिराकर उसके स्थान पर नव निर्माण होना है। नगर के बृजेश भाटिया ने उसे तोड़ने का ठेका लिया था।इसी को लेकर सोमवार की सुबह साढ़े आठ बजे मजदूर 32 वर्षीय बृजेश कुमार भाटिया निवासी मोहल्ला तोपखाना जर्जर कमरे की छत पर चढ़कर छत को तोड़ रहा था। अचानक छत का हिस्सा भरभराकर नीचे गिर गया। छत के साथ ही मजदूर बृजेश कुमार भी नीचे आ गिरा।साथ ही छत का मलबा भी उसके ऊपर गिर गया। आनन फानन में मौके पर मौजूद लोगों ने उसे गंभीर अवस्था में बाहर निकाला और तत्काल इलाज के लिए सीएचसी ले गए। उसके पहले ही उसकी मौत हो गई। अस्पताल पहुंचने पर डाक्टरों ने उसे देखते ही मृत घोषित कर दिया।स्वजन मृतक के शव को वापस छत्रसाल इंटर कालेज ले गए और औरैया हाईवे पर शव को रखकर जाम लगा दिया। सूचना मिलते ही एसडीएम राजेश सिंह, कोतवाल शैलेंद्र सिंह, एसआई राजकुमार पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और स्वजन को हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया।लगभग 10 मिनट बाद जाम खुल गया। जिसके बाद पुलिस ने मृतक के शव का पंचनामा भरा। हादसे में मजदूर की मौत की खबर जब पत्नी गीता को मिली तो वह बेहोश हो गई। वहीं भाई राकेश भाटिया व पिता मूलचंद्र का भी रो रोकर बुरा हाल था।