यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जालौन में आनलाइन ठगी गिरोह का भंडाफोड़


🗒 शुक्रवार, अगस्त 13 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
जालौन में आनलाइन ठगी  गिरोह का भंडाफोड़

जालौन ,  प्रदेश में बढ़ते साइबर क्राइम काे रोकने के लिए अब प्रत्येक जिले में प्रशासनिक अमला सतर्क हो गया है। लगभग सभी जगह साइबर अपराधियों को पकड़ने के लिए धरपकड़ जारी है। इसी कड़ी में एटीएम कार्ड बदलकर लोगों के खाते से रकम निकालने एवं आनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को उरई में पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपितों के पास से बड़ी संख्या में एटीएम कार्ड, पासबुक एवं मोबाइल फोन बरामद हुए हैं। काली कमाई से खरीदी गई लग्जरी गाड़ी भी जब्त की गई है।अपर पुलिस अधीक्षक राकेश सिंह ने प्रेस वार्ता में बताया कि पुलिस यमुना पुल पर वाहन चेकिंग कर रही थी। उसी दौरान एक कार को रुकने का इशारा किया तो उसने कार मोड़कर भागने का प्रयास किया, जिस पर पुलिस ने कार में सवार तीन युवकों को पकड़ लिया। पकड़े गये दोनों व्यक्तियों से नाम पता पूछने पर अपना नाम सुमित उर्फ कल्लू साहू  पुत्र दयाशंकर निवासी ग्राम देवकली,  शिवराम साहू पुत्र दयाशंकर साहू निवासी ग्राम देवकली तथा फरमान पुत्र  रिजवान थाना डेरापुर कानपुर देहात बताया। तलाशी में मिला यह सामान: आरोपितों की तलाशी शुरू की गई तो उनके पास से 40 एटीएम कार्ड तथा विभिन्न बैंकों की सात पासबुक तथा तीन चेक बुक, तीन मोबाइल मिले। पूछताछ करने पर आरोपितों ने बताया कि विभिन्न बैंकों में खाता खुलवाले हैं, जिसमें अपनी ई-मेल आइडी का प्रयोग करते हैं।सभी आरोपितों ने लोगों को ठगने के लिए युक्ति निकाली थी। इसके तहत खाताधारकों को बहला फुसलाकर व विभिन्न सरकारी योजनाओं के लाभ का लालच दिया था। उनके एटीएम कार्ड व पासबुक ले करके आरोपित कुछ कस्टमर केयर के फर्जी नंबर जनरेट कर लेते थे।  आनलाइन पेमेंट या खरीदारी के दौरान जब किसी व्यक्ति के साथ कोई समस्या हो जाती थी तो वे कस्टमर केयर का नंबर निकालते थे, जो आरोपितों के ही नंबर होते हैं। इसके बाद आरोपित उस व्यक्ति को एनीडेस्क, एनीवेयर, क्विक सपोर्ट जैसे स्क्रीन शेयरिंग ऐप व अन्य माध्यमों से लोगों के साथ धोखा धड़ी करके इन्हीं खातों में पैसा ट्रांसफर करवा लेते थे। जिन्हें इन्हीं एटीएम-डेबिट कार्ड के माध्यम से विभिन्न शहरों में स्थित एटीएम मशीनों से पैसा निकालकर हम सब लोग आपस में बांट लेते थे। आरोपित ने गिरफ्तारी के बाद बताया कि जो पैसा मिलता है उसी से हम अपने शौक व जरूरतें पूरी करते हैं, फिलहाल पुलिस ने जालसाजी और आइटी एक्ट की धाराओं पर दोनों अभियुक्तों के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया है। विगत दिनों भी पुलिस के द्वारा सात एटीएम हैकरों को जेल भेजा गया था। वहीं इसी गिरोह व यमुना पट्टी के गांव देवकली के दो युवक कानपुर में भी इसी तरह पकडे़ गये थे। इस गांव के अधिकतर युवा इस अवैध कारोबार में लिप्त हैं।