यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रेमी-प्रेमिका की संदिग्ध परिस्थिति में मौत


🗒 मंगलवार, जुलाई 19 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
प्रेमी-प्रेमिका की संदिग्ध परिस्थिति में मौत

जौनपुर, : चंदवक क्षेत्र के पड़रछा गांव में मंगलवार की भोर में घर के बरामदे में रोशनदान से रस्सी के सहारे फांसी पर प्रेमी जहां लटकता मिला तो वहीं उसके पास ही चौकी पर प्रेमिका मृत पड़ी थी। मृत महिला की मां ने अलसुबह यह दृश्य देखा तो उसके होश उड़ गए। आस पास के लोग जुट गए। पुलिस जांच में जुटी है।पड़रछा गांव निवासी फूलचंद्र विश्वकर्मा की पुत्री ज्योति की शादी दस वर्ष पहले राकेश विश्वकर्मा निवासी बेलाव थाना बदलापुर के साथ हुई थी। दोनों एक बेटी आठ साल की साक्षी है। शादी के चार साल बाद दोनों के संबंध खराब हो गए। वह पिता के घर ही रह रही थी।करीब एक साल पहले ज्योति का संपर्क मोबाइल के जरिए राजस्थान के अलवर प्रतापगढ़ के निताता गांव निवासी विकास कुमार मीणा से हुआ। करीब छह माह पहले वह घर से प्रेमी विकास से मिलने अलवर चली गईं। इधर, महिला की छोटी बहन प्रतीक्षा ने बदलापुर थाने में ज्योति को हत्या कर गायब कर देने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ज्योति को अलवर से बरामद कर उसके पिता फूलचंद्र को सिपुर्द कर दिया। तब से वह मायके में ही रह रही थी।सोमवार को प्रेमी विकास भी अलवर से आया। पतरही में उस दुकान पर भी गया जहां वह काम करती थीं। रात में प्रेमिका के घर विकास कब आया किसी को पता नहीं। घर में केवल उसकी मां व छोटी बहन ही रहती है। पिता वाराणसी रहते हैं। मंगलवार भोर में उसकी मां देवी जगी तो देखा की युवक रस्सी के सहारे रोशनदान से फांसी पर लटका व ज्योति बगल में चौकी पर मृत देखा।