यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रिवाल्वर का लाइसेंस पाने के लिए गढ़ दी लूट की फर्जी कहानी


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
रिवाल्वर का लाइसेंस पाने के लिए गढ़ दी लूट की फर्जी कहानी

जौनपुर, । चंदवक क्षेत्र के बरहपुर गांव के पास सोमवार की शाम चांदेपुर निवासी वक्रांगी केंद्र संचालक विनांत सिंह से 2.66 लाख रुपये की लूट की सूचना झूठी निकली। दरअसल रिवाल्वर के लाइसेंस के लिए आवेदन किए विनांत सिंह ने किसी के कहने पर लूट की कहानी गढ़ दी थी। मामला संदिग्ध नजर आने पर पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो टूट गए विनांत सिंह ने अपना झूठ स्वीकार कर लिया। पुलिस ने झूठी सूचना देने पर कार्रवाई करने की बजाय नरमी दिखाते हुए उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया।थाना क्षेत्र के पतरहीं बाजार में वक्रांगी केंद्र चलाने वाले विनांत ने देरशाम थाने पर सूचना दी कि घर जाते समय बरहपुर पुलिया के पास बाइक सवार बदमाशों ने असलहे के बल पर उससे 2.66 लाख रुपये लूट लिया है। पुलिस तुरंत हरकत में आ गई। लुटेरों की तलाश में पुलिस टीमें दौड़-भाग करने लगीं। बताए गए घटनास्थल से लेकर बैंक से रुपये निकालने तक गहन छानबीन की। सीओ केराकत शुभम तोदी की उपस्थिति में छानबीन में लूट की घटना संदिग्ध लगी। तथ्य सामने आया कि 2.66 लाख रुपये विनांत के खाते से जरिए चेक बांकेलाल के खाते में ट्रांसफर किया था। पुलिस ने पूछताछ के लिए बांकेलाल को बुलाया तो उसने इसकी तस्दीक कर दी।विनांत सिंह के पास 45 हजार रुपये मिले। इससे पुलिस का माथा और भी ठनक गया कि बदमाश लूटते तो उसकी जेब में मौजूद 45 हजार रुपये क्यों छोड़ देते। तब पुलिस ने विनांत सिंह से कड़ाई से पूछताछ की। अपने ही बुने जाल में फंसते देख विनांत सिंह टूट गया। उसने झूठी सूचना देने की बात कुबूल कर ली। कहा कि उसने रिवाल्वर के लाइसेंस के लिए आवेदन कर रखा है। सीओ केराकत के कार्यालय में पैरवी करने गया था। लाइसेंस आसानी से मिल जाए, इसलिए लूट की कहानी गढ़ दी थी। सीओ शुभम तोदी ने बताया कि सच सामने आने और विनांत सिंह के कुबूल कर लेने के बाद थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया।