यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

50 हजार के इनामी अपराधी ने पुलिस के सामने किया आत्मसमर्पण


🗒 सोमवार, अप्रैल 04 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
50 हजार के इनामी अपराधी ने पुलिस के सामने किया आत्मसमर्पण

जौनपुर, । 50 हजार रुपये के पुरस्कार घोषित कुख्यात रवि तिवारी उर्फ वीर ने सोमवार को नाटकीय अंदाज में पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया। खुटहन थाना पुलिस को हत्या के मामले में उसकी तलाश थी। उसके विरुद्ध संगीन धाराओं में करीब डेढ़ दर्जन मुकदमे जौनपुर व सुल्तानपुर जिलों में दर्ज हैं। मीडिया कर्मियों ने उसने कहा कि योगी राज-2 में बुलडोजर और मुठभेड़ के खौफ के चलते उसने जेल जाने में ही भलाई समझी।जींस की पैंट और लाल रंग की शर्ट पहने मास्क लगाए एक युवक करीब 12 बजे एसपी कार्यालय पहुंचा। कुछ पल इधर -उधर देखने के बाद सीधे एएसपी (सिटी) डा. संजय कुमार के कक्ष में पहुंचा और कहा कि उसे गिरफ्तार कर लिया जाए। उसने अपना परिचय खुद दिया। कहा कि वह सरपतहां थाना क्षेत्र के चौबाहां गांव का निवासी शातिर अपराधी रवि तिवारी उर्फ वीर है। उस पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित है। पता चलते ही दफ्तर में सनसनी फैल गई। एएसपी (सिटी) डा. संजय कुमार ने बताया कि पिछले वर्ष खुटहन थाना क्षेत्र में हत्या के मामले में रवि तिवारी उर्फ वीर वांछित था। उस पर अयोध्या रेंज के डीआइजी ने 50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर रखा था। आवश्यक लिखापढ़ी कर पुलिस ने उसका चालान कर दिया। मालूम हो कि एसएसपी अजय कुमार साहनी के निर्देशन में पूरे जिले में पुलिस ने अपराध नियंत्रण को विशेष अभियान चला रखा है। माफियाओं व अपराधियों में इसकी दहशत साफ देखी जा रही है।वर्ष 2011 में गृह गांव चौबाहां में मारपीट की घटना से जरायम की दुनिया में कदम रखने वाला रवि तिवारी उर्फ वीर कुछ ही वर्षों में आतंक का पर्याय बन गया। उसके विरुद्ध जौनपुर के सरपतहां व खुटहन, सुल्तानपुर के अखंडनगर, मोतिगरपुर व करौंदीकला थानों में मारपीट, हत्या, लूट, हत्या के प्रयास, गैंगस्टर, क्रिमिनल लॉ एमेंडमेंड, गुंडा, आर्म्स एक्ट, जालसाजी, धोखाधड़ी आदि धाराओं में 17 मुकदमे दर्ज हैं।