यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सेंट्रल बैंक का 11वां लाकर भी साफ


🗒 मंगलवार, अप्रैल 12 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सेंट्रल बैंक का 11वां लाकर भी साफ

कानपुर, । सेंट्रल बैंक आफ इंडिया की कराचीखाना शाखा के एक और लाकर से 22 लाख रुपये के जेवर गायब मिले हैं। इससे पहले 10 लाकरों से साढ़े तीन करोड़ के जेवरात चोरी हो चुके हैं। इसे मिलाकर 11 लाकर से 3.72 करोड़ रुपये का माल पार हुआ है। पीड़िता की तहरीर पर थाना फीलखाना पुलिस जांच कर रही है। मोतीमोहाल निवासी अमिता गुप्ता ने बताया, वर्ष 2015 में उन्होंने कराचीखाना स्थित सेंट्रल बैंक में लाकर किराये पर लिया था। वह मुजफ्फरनगर स्थित बिंदल पेपर मिल में कार्यरत हैं, जबकि पति कुलजीत गुप्ता रतनलाल नगर में जावेद हबीब सैलून का संचालन करते हैं। बताया कि सोमवार को उनके पास बैंक की ओर से फोन आया कि वह अपना लाकर चेक कर लें। मंगलवार को पहुंचकर जब लाकर में अपनी चाबी व बैंक अधिकारी ने मास्टर चाबी लगाई तो ताला नहीं खुला। इसके बाद करीब 25 मिनट तक लाकर खोलने की कवायद के बाद ताला खुला तो जेवर खाली था। अब तक 11 लाकर से माल पार हो चुका है। इनमें एक लाकर बैंक आफ इंडिया की फूलबाग शाखा का है। डीसीपी पूर्वी प्रमोद कुमार ने बताया, मामला संज्ञान में आया है। जांच की जा रही है। लगातार लाकरों में गड़बड़ी मिलने के बाद भी सेंट्रल बैंक के अफसर बाज नहीं जा रहे हैं। लाकर धारकों के साथ उनका व्यवहार अच्छा नहीं है। मंगलवार को भी यही हाल रहा। पीड़िता अमिता गुप्ता ने रोते हुए बताया कि जब 25 मिनट तक लाकर नहीं खुला तो उन्हें गड़बड़ी का संदेश हुआ। इस पर उन्होंने मोबाइल फोन से वीडियो बनाना शुरू किया तो बैंक अफसरों ने रोक दिया। जैसे ही लाकर खुला बैंक अधिकारी बाहर की ओर भागे। उन्होंने देखा कि लाकर खाली है, लेकिन अफसर मानने को तैयार नहीं हुए। बोले, उन्होंने कुछ नहीं देखा। इसके बाद जब पुलिस में शिकायत करने का नंबर आया तो भी किसी बैंक कर्मचारी ने उनका सहयोग नहीं किया। सभी उनसे पल्ला झाड़ते नजर आए।