यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

इंश्योरेंस में छूट का झांसा देकर ठगी


🗒 गुरुवार, अप्रैल 14 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
इंश्योरेंस में छूट का झांसा देकर ठगी

कानपुर,। इंश्योरेंस किश्त जमा करने में छूट देकर ठगी करने वाला गिरोह एक बार फिर से सक्रिय हो गया है। हाल में ही एक मामला नवाबगंज का सामने आया है। क्राइम ब्रांच ने पूर्व में पकड़े गए छह आरोपितों का नेटवर्क फिर से खंगालना शुरू कर दिया है। क्राइम ब्रांच ने फिर से पुराने 30 नंबरों की सीडीआर और लोकेशन फिर से खंगालनी शुरू की है।बीते वर्ष जून माह में बर्रा तात्याटोपे नगर निवासी अमित गुप्ता संग साइबर ठगों ने इंश्योरेंस प्रीमियम में छूट दिलाने का झांसा देकर 51 हजार की ठगी की थी। क्राइम ब्रांच ने डलमऊ रायबरेली के वरूण, उसके भाई करन, उत्तम नगर दिल्ली निवासी करन शर्मा, अमन, दिल्ली निवासी आशीष कनौजिया उर्फ जटायु, घटिया अजमत अली नौरंगाबाद इटावा निवासी सरगना शिवम उर्फ फई को गिरफ्तार किया था। बाद में मुजफ्फरमऊ देवा, बाराबंकी निवासी चंद्रहास और उसके दशरथपुर फैजाबाद निवासी साथी आकाश सोनी को गिरफ्तार किया था। आरोपित के पास एक लैपटाप, चार एटीएम, 15 मोबाइल चार्जर, आठ मोबाइल, 7440 रुपये की नकदी, विभिन्न कंपनियों के 11 सिमकार्ड बरामद हुए थे।इसी तरह नवाबगंज निवासी अशोक कुमार मिश्रा संग भी बीमा किश्त में 25 फीसद छूट का झांसा देकर उनसे 60 हजार की रकम ट्रांसफर करा ली। मामला साइबर सेल में आने के बाद क्राइम ब्रांच ने पूर्व में पकड़े गए आरोपितों के नेटवर्क को खंगालना शुरू किया है। पूर्व में पकड़े गए आरोपितों के नेटवर्क को नए सिरे से खंगाला जा रहा है। आरोपितों के पास से क्राइम ब्रांच ने 11 सिमकार्ड बरामद किए थे। उनकी सीडीआर भी निकलवाई गई थी। अब पुलिस उन सीडीआर में संदिग्ध नंबरों की तलाश कर रही है। वहीं जिस नंबर से काल आयी थी उस नंबर की भी सीडीआर खंगाली जा रही है।