यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बीमा पालिसी के नवीनीकरण के नाम पर 85 लाख की धोखाधड़ी


🗒 रविवार, मई 08 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बीमा पालिसी के नवीनीकरण के नाम पर 85 लाख की धोखाधड़ी

कानपुर, । साइबर ठगों ने स्वास्थ्य विभाग के आगरा मंडल से सेवानिवृत्त अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य संग बीमा पालिसी के नवीनीकरण के नाम पर 85 लाख की धोखाधड़ी कर ली। मामले की जानकारी होने पर पीड़ित बुजुर्ग ने नजीराबाद थाने में आइटी एक्ट और धोखाधड़ी की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है।हर्ष नगर निवासी जय सिंह राठौर ने बताया कि वह आगरा मंडल से अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के पद से वर्ष 2016 में सेवानिवृत्त हुए थे। पुलिस को दी तहरीर में बताया कि वर्ष 2013 में एक कंपनी की चार बीमा पालिसियां ली थीं। दो साल बाद भुगतान न जमा होने के चलते सभी पालिसियां लैप्स हो गई थीं। कुछ माह बाद खुद को कंपनी का एजेंट बताकर काल की और पालसियों को दोबारा चालू करने के लिए कहा। आरोप है कि आरोपितों ने उनसे आइसीआइसीआइ बैंक, स्टेट बैंक आफ मारीशस, कैनरा बैंक समेत कई बैंक खाते में अनिकेत सिंह, दिनेश चंद्र, बच्चूमल आदि खातों में बीते दो साल से करीब 85 लाख रुपये जमा कराए। रसीद मांगने पर और रुपये जमा करने के लिए दबाव बनाने लगे तो ठगी की जानकारी हुई। उन्होंने नजीराबाद थाने में तहरीर दी थी। थाना प्रभारी नजीराबाद हर प्रसाद अहिरवार ने बताया कि धोखाधड़ी और आईटी एक्ट में रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।