यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर हिंसा के आरोपितों को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला


🗒 सोमवार, जून 06 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कानपुर हिंसा के आरोपितों को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला

कानपुर, । राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की कानपुर में बीते शुक्रवार को मौजूदगी के दौरान उपद्रव तथा हिंसा के मामले में पुलिस पत्थरबाजी करने वालों पर शिकंजा कस रही है लेकिन इलाके तनाव शांत नहीं हो रहा है। नई सड़क पर तीन जून को हुए बवाल में एक आरोपित को पकड़ने के लिए गई पुलिस टीम पर बजरिया थाना क्षेत्र के कंघी मोहाल में भीड़ ने हमला कर दिया। भीषण पथराव के बीच पुलिस एक आरोपित को ही पकड़ पाई, जबकि दूसरा भागने में सफल रहा। मौके पर भारी पुलिस बल भेजा गया है।भाजपा नेता नूपुर शर्मा की कथित विवादित टिप्पणी के विरोध में शुक्रवार को एमएमए जौहर फैंस एसोसिएशन ने बंद का एलान किया था। हालांकि, संगठन ने बंद वापस ले लिया था, लेकिन समुदाय विशेष के क्षेत्रों में दुकानें बंद रहीं। जुमा की नमाज के बाद हजारों लोग सड़क पर उतर आए थे। पथराव, फायरिंग व बमबाजी की थी। इसमें दारोगा समेत सात लोग गंभीर और दो दर्जन अन्य घायल हो गए थे। पुलिस ने तीन मुकदमे दर्ज कर 36 नामजद व एक हजार अज्ञात को आरोपित बनाया था।नई सड़क और दादा मियां का हाता में शुक्रवार को हुए उपद्रव की विशेष जांच दल (एसआइटी) ने जांच शुरू कर दी है। एसआइटी के अध्यक्ष डीसीपी दक्षिण संजीव त्यागी ने सोमवार को पैदल ही उपद्रव प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया। स्थानीय पुलिस अधिकारियों से एक-एक मिनट की जानकारी ली। डाग स्क्वायड और फोरेंसिक टीम ने भी साक्ष्य जुटाए। पुलिस ने एक पोस्टर जारी किया है।इसमें 40 चिह्नित उपद्रवियों की फोटो के साथ इनके बारे में जानकारी देने की अपील की गई है। उपद्रव की जांच के लिए गठित चार एसआइटी में इंटरनेट मीडिया पर लोगों को भड़काने वालों की जांच कर रही एसआइटी के सदस्य कोतवाली प्रभारी अरुण कुमार तिवारी ने भड़काऊ पोस्ट करने के आरोप में आठ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।सोमवार दोपहर 12 बजे संयुक्त पुलिस आयुक्त आनंद प्रकाश तिवारी, शासन की ओर से भेजे गए आइपीएस अजय पाल शर्मा और डीसीपी प्रमोद कुमार सिंह एसआइटी के साथ बेकनगंज थाने पहुंचे और बैठक की। इसके बाद डीसीपी दक्षिण संजीव त्यागी ने एसआइटी के पर्यवेक्षक एडिशनल डीसीपी बृजेश कुमार श्रीवास्तव व मुख्य विवेचक एसीपी कर्नलगंज त्रिपुरारी पांडेय के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया। तलाक महल रोड पर एक दुकान के बाहर उन्हें सीसीटीवी कैमरा लगा दिखा।दुकानदार से फुटेज मांगे तो उसने बताया कि घटना वाले दिन कैमरा बंद था। इस पर उन्होंने नाराजगी जताई और दुकानदार को डीवीआर के साथ बुलाया है। टीम ने इसके बाद यतीमखाना का निरीक्षण किया। नई सड़क भी गई। चंद्रेश्वर हाता के लोगों से भी मिली। सुरक्षा को लेकर मुसीबत बनीं बहुमंजिला इमारतों को भी देखा। उस इमारत का भी निरीक्षण किया जहां से पथराव और गोलीबारी होना बताया जा रहा है।एसआइटी ने पेचबाग, डिप्टी पड़ाव आदि स्थलों का भी निरीक्षण किया। इधर, कोतवाली में इंटरनेट मीडिया में यूजर आइडी के आधार पर जाबिर हुसैन, अली मेंहदी रिजवी, गोशुल्लाह, सोहैल कादरी, महोबा के अमित सिंह यादव, एम आजमी, मुल्ला बुरहम और शामस तबरेज कासमी के खिलाफ भड़काऊ पोस्ट करने का मुकदमा दर्ज किया गया है।