यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला पंचायत कानपुर मे करोड़ों रुपये के गबन व भ्रष्टाचार में जिला पंचायत अधिकारियों पर मुकदमा


🗒 सोमवार, मई 27 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

14 वर्ष पूर्व विभिन्न ब्लॉक में संपूर्ण ग्र्रामीण रोजगार योजना (एसजीआरवाइ) के तहत हुए विकास कार्यों में करोड़ों रुपये की अनियमितता की जांच आखिरकार पूरी हो गई। उप्र सतर्कता अधिष्ठान के निरीक्षक ने जिला पंचायत के तत्कालीन अवर मुख्य अधिकारी, अभियंता, अवर अभियंताओं समेत छह कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी व जालसाजी का मुकदमा दर्ज कराया है।विजिलेंस इंस्पेक्टर संजय कुमार दीक्षित के अनुसार शासन ने वर्ष 2009 में जिला पंचायत कानपुर के तत्कालीन अपर मुख्य अधिकारी नरेश कुमार के कार्यकाल में करोड़ों रुपये के गबन व भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के आदेश दिए थे। 20 दिसंबर 2012 को जांच रिपोर्ट व 07 जनवरी 2019 को अनुपूरक जांच रिपोर्ट शासन को भेजी गई। इसके मुताबिक एसजीआरवाइ के तहत विभिन्न ब्लॉक में वर्ष 2003-04 व 2004-05 में हुए विकास कार्यों में तमाम गड़बडिय़ां हुईं।सत्यापन के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि कुछ ही विकास कार्य श्रमिकों से कराए गए। बाकी जेसीबी मशीन से कराए गए और पत्रावली व मस्टररोल पर मजदूरों के नाम व पते फर्जी लिखकर सरकारी धन का गबन किया गया। इसी आधार पर शासन ने 13 मार्च को मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश दिए थे। कोतवाली प्रभारी आशीष शुक्ला ने बताया कि धोखाधड़ी, अमानत में खयानत, जालसाजी व भ्रष्टाचार अधिनियम की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। विवेचना के बाद आगे की कार्रवाई होगी।तत्कालीन अवर अभियंता योगेंद्र द्विवेदी द्वारा नित्येश्वर आश्रम में तालाब खोदाई का कार्य, अवर अभियंता चिरंतन त्रिपाठी द्वारा गजनेर मार्ग से नंदना गनेशीपुर मार्ग पर मिट्टी, पुलिया व खड़ंजा, मंगलेश्वर मंदिर से रौतारा मगरासा मार्ग पर मिट्टी व पुलिया का कार्य, तत्कालीन अवर अभियंता महेंद्र कुमार गर्ग द्वारा कराए गए खांगलादेवी मंदिर सगुनियापुरवा बम्बा मार्ग पर मिट्टी, पुलिया के कार्यों में खेल हुआ।मुकदमे में जिला पंचायत के तत्कालीन अपर मुख्य अधिकारी नरेश कुमार, अवर अभियंता योगेंद्र कुमार द्विवेदी, चिरंतन त्रिपाठी, महेंद्र कुमार गर्ग, तत्कालीन अभियंता राजकमल सक्सेना, विनोद कुमार मखीजा, कैशियर रमाशंकर त्रिपाठी।आरोपितों में शामिल अवर अभियंता महेंद्र कुमार गर्ग के भ्रष्टाचार का खेल उनकी मौत के दस वर्ष बाद खुला है। सतर्कता अधिष्ठान के मुताबिक महेंद्र कुमार का निधन 16 अगस्त 2008 को हुआ था। जांच रिपोर्ट के मुताबिक तत्कालीन कैशियर रमाशंकर त्रिपाठी ने अंत्योदय, ठेका देसी शराब, कृषि भूमि, नौकाघाट, पशुबाजार व तहबाजारी आदि के ठेकों से 05 फरवरी 2002 से 31 मार्च 2003 के बीच करीब 2.88 लाख रुपये एकत्र किए। लेकिन यह रकम चार साल से ज्यादा तक अपने पास रखे रहे। 29 मार्च 2006 को चालान के जरिए रकम कोषागार के जिला निधि खाते में जमा की।

 जिला पंचायत कानपुर मे करोड़ों रुपये के गबन व भ्रष्टाचार में जिला पंचायत अधिकारियों पर मुकदमा

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर के बिधनू मे खुशियों के लिए लड़ा फिर निराश हो लगाया मौत को गले

» किदवई नगर स्थित स्कूल से छुट्टी के बाद अचानक बच्चों के गायब होने से अफरा तफरी मच गई

» रनियां कस्बे में दर्दनाक हादसा, कार की टक्कर के बाद युवक की ओवरब्रिज से नीचे गिरकर मौत

» कानपुर के उर्सला अस्पताल में डीएम के अर्दली से ऑपरेशन के नाम पर पांच हजार रुपये मांगे

» नौबस्ता स्थित गल्ला मंडी में चाय विक्रेता की निर्मम हत्या

 

नवीन समाचार व लेख

» प्रयागराज के मऊआइमा में महिला की हत्‍या व कोरांव में किराना दुकानदार की मौत

» चंदोली मे 50 की उम्र में भतीजे से रचाई शादी, पुलिस बनी साक्षी

» सरकारी राजस्व बकाया नहीं देने पर प्रशासन ने तुलसियानी ग्रुप कार्यालय पर लगाया ताला

» UP में ध्वस्त कानून व्यवस्था के खिलाफ सपा सड़कों पर, कई जिलों में पुलिस से टकराव

» इलाहाबाद हाई कोर्ट का अहम फैसला, अध्यापक नियुक्ति का अनुमोदन सात दिन में न करने पर स्वत: हो जाएगी नियुक्ति