यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर मे सऊदी से लौटे भाई की हालत बिगड़ने पर लेकर पहुंचा अस्पताल, दोनों को आइसोलेट कर ऑक्सीजन पर रखा


🗒 सोमवार, मार्च 23 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सऊदी अरब से लौटे भाई की अचानक हालत बिगड़ने पर दूसरा भाई पहले कानपुर देहात के जिला अस्पताल ले गया और फिर सोमवार को शहर के एलएलआर हैलट अस्पताल पहुंचा। उसकी हालत देखकर डॉक्टरों ने कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज मानकर उसके साथ भाई को भी आइसोलेट कर दिया है। दोनों को वार्ड में ऑक्सीजन पर रखा गया है और नमूने लेकर जांच के लिए भेज दिए हैं।कानपुर देहात में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य महकमे के अधिकारी शायद संजीदा नहीं है। सोमवार सुबह कानपुर देहात के सीएमओ ने सऊदी अरब से लौटे युवक की हालत गंभीर देखकर कोराेना संक्रमण की संदिग्धता जताते हुए नमूना लेकर जांच के लिए भिजवाया लेकिन उसे आइसोलेट नहीं किया। जब उसकी हालत बिगड़ने लगी तो भाई उसे लेकर कानपुर के संक्रामक रोग अस्पताल (आइडीएच) लेकर पहुंचा। छोटे भाई ने बताया कि 35 वर्षीय भाई सऊदी अरब से लौटे हैं। उन्हें बुखार, सांस लेने में तकलीफ हुई तो सीएमओ कानपुर देहात से संपर्क किया। सोमवार सुबह माती स्थित जिला अस्पताल में उनके थ्रोट और नेजल स्वाब का नमूना लिया लेकिन भर्ती नहीं किया, जबकि उनकी हालत गंभीर थी।हालत बिगड़ने पर सुबह 10 बजे हैलट अस्पताल लेकर आ गए। यहां जिला महामारी वैज्ञानिक डॉ. देव सिंह ने आइडीएच के सीएमएस डॉ. अनूप शुक्ला से बात करके दोनों भाइयों को तत्काल आइसोलेट कराया। मुस्लिम रजा को आक्सीजन पर रखा गया है। इसकी सूचना डीएम डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी और सीएमओ कानपुर नगर डॉ. अशोक शुक्ला को दी। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रो रिचा गिरी ने बताया कि कोराना वायरस के दो संदिग्ध मरीज भर्ती हुए हैं। उन्हें देखने के लिए कोरोना के नोडल अफसर को आइडीएच भेजा है। उनकी स्थिति जानने के बाद ही कुछ बता सकेंगे।सबस बड़ा सवाल यह है कि दोनों मजदूर हैं और फिर बिना जांच के सऊदी अरब से कानपुर देहात कैसे पहुंच गए। अचानक तबियत खराब नहीं हुई होगी, ऐसे में अगर यहां रह रहे थे तो महकमा क्यों छिपा रहा है। विदेश से आने वाले किसी भी संदिग्ध का नमूना लेकर उसे फौरन आइसोलेट करना है। यहां संदिग्ध की हालत गंभीर थी, फिर भी उसे आइसोलेशन वार्ड में नहीं भर्ती कराया। जिम्मेदार अफसरों ने लापरवाही बरतते हुए भाई के साथ भेज दिया, जिससे उसके छोटे भाई को भी संदिग्ध मानकर आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करना पड़ गया।

कानपुर मे  सऊदी से लौटे भाई की हालत बिगड़ने पर लेकर पहुंचा अस्पताल, दोनों को आइसोलेट कर ऑक्सीजन पर रखा

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर रेलवे स्टेशन पर एक यात्री की बात सुनकर सभी के होश उड़ गए उठा ले गई स्वास्थ्य टीम

» कानपुर मे शादी को दो साल भी नहीं हुए विवाहिता की मौत से मचा कोहराम

» कानपुर में कल्पना टॉवर और सागर विला अपार्टमेंट लॉक डाउन

» कानपुर मे पति बोला-उधार न चुका सका तो फैक्ट्री संचालक ने पत्नी को रख लिया है अपने पास

» कानपुर में रिश्तेदार के यहां आई थीं कोरोना संक्रमित गायिका कनिका कपूर

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर मे सऊदी से लौटे भाई की हालत बिगड़ने पर लेकर पहुंचा अस्पताल, दोनों को आइसोलेट कर ऑक्सीजन पर रखा

» आगरा कैंट स्‍टेशन पर थर्मल स्‍क्रीनिंग में एक दारोगा समेत 26 संदिग्ध मिले

» प्रयागराज मे सीएए विरोधियों का धरना स्‍थगित

» 21 जून तक टिकट रिफंड करा सकेंगे यात्री, 31 मार्च तक निरस्त हुई ट्रेनें

» लखनऊ में 20 प्रतिशत से भी कम हुआ एयर ट्रॉफिक